सोमवार, 29 अगस्त 2011

बहन का नग्नता से परिचय-10

करेन अचानक उठ खडी हई और सोफे की ओर बढ़ने लगी। मैं एक पल के लिए घबरा गया और उसे वापस खींचने की कोशिश की लेकिन वह मुड़ी और मुस्कुराई,"चिंता मत करो। मैं कुछ नहीं करने वाली हूँ।"
वह उन तीनों के सामने पहले फर्श पर घुटनों के बल बैठ गई और अपना एक हाथ वैल के टखने पर रख आराम से उस दृश्य को देखने लगी। अब मैं अकेला रह गया। मैंने देखा डेव और ट्रेव जो स्पष्ट रूप एक दूसरे में व्यस्त थे।
मैंने वैल से आँख मिलाई। वह मुस्कुराई, उसके होंठ मेरे लिये चुंबन के लिये हिले जैसे कह रही थी,"चिंता मत करो !"
मैं सोफे में बैठा अपने लिंग को सहलाने लगा। मैं इस समय बहुत ज्यादा अकेलापन महसूस कर रहा था। वो दोनों उसकी योनि को मसल रहे थे। जब तक उसकी योनि पूरी तरह गीली नहीं हो गई उसने अपनी आँखें नहीं खोली।
फिर वैल ने मेरी तरफ देखा तो उसके मुँह से निकला," टिम मुझे देख कर हस्तमैथुन करो।"
अब मैं पूरी गंभीरता से अपने लिंग को झटके देते हुए वैल को देख रहा था। अब डेव की आँखों में झलकती खुशी देखी जा सकती थी। हम में से हर एक उन पलों का आनंद ले रहा था।
मैंने देखा कि करेन ने वैल के चेहरे की ओर देखा और कुछ कानाफूसी की तो वैल ने सिर हिलाया और बदले में मुस्कुराई, और तभी करेन ने बायां हाथ आगे बढ़ा कर कार्ल की बडी गेंदों को पकड़ लिया। वैल ने अपने हाथ से कार्ल के लिंग को ऊपर और नीचे करना जारी रखा। करेन की पीठ मेरी तरफ थी और वह क्या कर रही थी यह देखने के लिए मुझे गर्दन ऊँची करनी पड़ रही थी।
वैल मुस्कुराई और करेन के कंधे को धीरे से धक्का दिया तो मैं उस दृश्य को देख कर रोमांचित हो उठा। करेन अपने हाथों में कार्ल की गेंदों कोई कामुक इरादे से नहीं बल्कि लगभग उन्हें वैज्ञानिक तरीके से पकड़े थी जैसे वजन नाप रही हो।
वैल का हाथ कार्ल के लिंग पर एक लम्बे स्ट्रोक के साथ आगे-पीछे हो रहा था और मैं उसकी छोटी उंगली को करेन की उंगलियों तक पहुंचते और स्पर्श करते देख सकता था।
फिर करेन ने अपनी उंगलियों को खोला और धीरे से कार्ल के लिंग की विशाल परिधि के चारों ओर लपेट लिया। वैल एक पल के लिए रुकी फिर कार्ल के लिंग के सुपारे को अपनी मुट्ठी में भींच कर जोर जोर से घुमाने लगी। जल्द ही करेन और वैल लय में आ गई और अब उन दोनों के हाथ ऊपर और नीचे उसके लिंग पर चल रहे थे। उन दोनों के हाथ कभी लिंग को मोड़ते और कभी कभी उसके विशाल सुपारे को अपने अंगूठे से रगड़ने के लिये रुक रहे थे।
वातावरण अब यौन-उत्तेजना और कामुक ध्वनियों से गर्म हो चुका था, वैल ने अपने कूल्हों को हिलाना शुरू कर दिया, उसके मुंह से आह… आ.. ह… की ध्वनि भी निकलने लगी थी। वह अपनी योनि को दो मर्दों के हाथो में जोर से मसले जाने के लिए खुद प्रयास कर रही थी। वह रॉड को अपनी उंगलियों को और अन्दर तक घुसाने के लिये मजबूर कर रही थी। वह लगभग ठिनक रही थी और उसकी भगनासा कार्ल की उंगलियों से और भी अधिक मसलवाने पर आमादा लग रही थी।
मैं अपने सख्त लिंग को हाथ में लिये बैठा वैल के होंठों से बह रही लार, चेहरे पर आनन्द की अनुभूति और उसकी आँखों में एक संभोग-चर्मोत्कर्ष के साथ उसके बदन में कंपकंपी देख रहा था। एक क्षण के लिए उसके हाथ उन दो लण्डों पर थम गए थे लेकिन जल्द ही वह फिर से उसी तरह अपना काम करने लगी।
"आह …" मैंने ट्रेव की आवाज सुनी।
शायद वह स्खलित होने वाला था। मैंने जैसे ही उसे देखने के लिए अपना सर घुमाया, उसके लिंग ने डेव के हाथ में अब सफेद मोटी वीर्य की धार छोड़ दी। डेव ने उसके लिंग की मुख को जकड़ लिया लेकिन उसकी उंगलियों के बीच से वीर्य निकल कर नीचे उसके हाथ पर बहने लगा था।
मैं यह नहीं बता सकता कि डेव चर्मोत्कर्ष तक पहुँची या नहीं, लेकिन वह सीधी हो गई और ट्रेव का हाथ अपनी योनि से हटा दिया और फुसफुसाई,"बकवास !"
अब रॉड के स्खलन की बारी थी। उसने कोई खास मुद्रा नहीं बनाई सिर्फ इतना कहा,"मम्म….."
और अपने पेट पर अपने लिंग से वीर्य की एक छोटी सी धार छोड़ दी। इस समय मैं सोच रहा था शायद इसकी बीवी इसे इतना सूखा रखती है। मैं उसके इतने कम वीर्य से हैरान नहीं था।
मुझे अपनी और देखते हुए जान कर वैल बुदबुदाई,"भाग्यशाली कमीने !" और फिर उसने अपनी उंगली को अपनी योनि पर घिसा और फिर उसको चाट कर एक चटखारा लिया। वह अभी भी मेरी बहन साथ कार्ल के लिंग का हस्तमैथुन कर रही थी पर करेन आसपास चल रहे चर्मोत्कर्ष से अनजान लग रही थी।
"ओह…. ब... . बस करो यह बहुत अधिक हो गया !" कार्ल ने कहा।
और फिर उसके लिंग से निकलता वीर्य लावे की तरह भड़क उठा, उसके लिंग से बाहर निकलती वीर्य की मोटी धारा चारों ओर बह रही थी, तो भी दोनों हाथ नीचे चलते रहे। करेन और वैल दोनों अपने अपने हाथ उसके लिंग के सुपारे की तरफ लाई, अंतिम क्षणों में उसको मसला और अंगूठे के साथ वह सब तरल गाढ़ा द्रव्य अपने अपने हाथ में लिपटा लिया।
अब सब कुछ शांत हो गया था और सभी अपनी अपनी सीटों पर आकर अपनी थकान मिटाने लगे।
करेन अपनी ऊँची एड़ी के जूतों के साथ वापस बैठ गई और एक नैपकिन ले कर अपने हाथ से लिपटे वीर्य को पोंछ दिया। वैल ने अपनी टांगें सिकोड़ ली और उन दोनों लिंगों को छोड़कर अपने हाथों पर लगे वीर्य को अपने स्तनों पर पोंछ लिया।
वातावरण में अब मौन सा था।
मेरे बगल में बैठा ट्रेव धीरे से हँसा और फिर उसने कहा,"अरे… क्या कॉफी मिल सकती है?"
करेन तुरन्त बोली,"मैं सोना चाहती हूँ.... प्लीज मेरे लिए कॉफ़ी मत मंगवाना ! नहीं तो मैं सो नहीं सकूँगी। शुभरात्रि…. टिम चलो !"
उसका मकसद जो भी था मैं उसके साथ बहस नहीं करने जा रहा था। बल्कि मैंने सोचा कि इससे पहले की परिस्थितियाँ और अधिक उत्तेजक हो जायें, अपने कैबिन में जाना एक अच्छा विचार है।
हमने अलविदा कहा और सभी को जाने से पहले गले लगा कर आलिंगन किया। रॉड और वैल हमें नीचे छोड़ने आये।
"मुझे आशा है, यह हमने जो भी किया, आप में से कोई हैरान या नाराज नहीं है !" वैल कहा।
"बिल्कुल नहीं !" करेन ने कहा,"मैने बताया था कि मैं अब नग्नता के साथ सहज हूँ और टिम अब बड़ा हो गया है और अपना मन खुद बना सकता है।"
जब हम विदाई चुंबन ले रहे थे तब वैल मेरे कान में फुसफुसाई,"आप करेन को छोड़ कर जल्द ही वापस आओ !"
कहानी अभी जारी रहेगी !

बहन का नग्नता से परिचय-9



बहन का नग्नतावाद से परिचय-9

खाना खाने के बाद सफाई कर लेने के बाद हम सब वापस बैठ गये और रेड वाइन का आनंद लेने लगे।

वैल बड़े सोफे और कार्ल और रॉड के बीच बैठ गई और मैं और करेन भी पास पड़े छोटे सोफे पर बैठ गए।
पास में डेव ट्रेव की गोद में बैठी हुई थी और जहाँ मैं बैठा था, वहाँ से मैं देख सकता था कि वे दोनों बहुत उत्तेजित हो रहे थे और डेव अपने कूल्हे रगड़ रही थी, ट्रेव अपना बायां हाथ उसके चूतड़ों के आसपास घुमा रहा था। कभी कभी वह अपनी उंगलियों को धीरे धीरे घुमाकर उसकी योनि की लकीर पर चला रहा था।
कार्ल का बायां हाथ वैल के कंधे पर था, जबकि रॉड उसकी जांघ पर अपना हाथ रखे था।
करेन और मैं अलग बैठे थे, लेकिन हम आगे झुककर अपने घुटनों पर कोहनी रखे शराब के घूंट मारते हुये बातें कर रहे थे।
कार्ल ने डेव से कहा,"ट्रेव इस समय बहुत उत्तेजित है लेकिन तुम इसे छिपाने का अच्छा प्रयास कर रही हो।"
रॉड ने हँसते हुए कहा,"उन्हें अकेला छोड़ दो कार्ल, वे युवा प्रेमी हैं।"
"दरअसल मैं यह करेन से छिपा रही थी ! मुझे लगता है कि वह इस बात को पसंद नहीं करेगी कि ट्रेव उसके साथ कुछ ऐसा वैसा करे !" डेव ने कहा।
"हो सकता है ! लेकिन क्या तुमने उससे पूछा ?"
"नहीं … मैंने इसके बारे में तो नहीं पूछा।"
"चलो मैं पूछ लेती हूँ।" वैल ने कहा और वह करेन की तरफ मुड़ी, "आपको कोई भी कुछ भी स्वीकार करने का दबाव नहीं है लेकिन क्या यह आपका अपमान होगा?"
करेन ने कुछ सोचते हुए कहा,"नहीं ! मुझे वास्तव में लगता है कि मुझे इससे कोई परेशानी नहीं !"
"अरे भई क्या मुझे भी इस बारे में कुछ कहने का मौका मिलेगा ?" ट्रेव हँसा।
"नहीं !" डेव ने कहा और साथ ही घोड़ी बन कर उसके टांगों के बीच बैठ गई और उसके लिंग को आधार से पकड़ा जो कि थोड़ा छोटा लग रहा था लेकिन अविश्वसनीय रूप से मोटा और आगे से बहुत पतले सिर के साथ खड़ा था।
"यह शरारती बच्चा किसका है?" वह ठठ्ठा मार कर हंसी।
करेन इस प्रसंग पर हँसी तो ट्रेव उसने तुरंत माफी मांगी,"मैं डेव के इस कृत्य पर क्षमा मांगता हूँ !"
"ओह …. मैं तुम पर नहीं हँस रही थी !"
हम फ़िर बातचीत करने लगे, लेकिन यह दिख रहा था कि डेव का ट्रेव के लिंग से उसका हाथ हटाने का कोई इरादा नहीं था।
जल्द ही डेव अपने हाथ को नीचे ले जाकर धीरे से अपनी योनि को थपथपाकर योनि फ़लक थोड़े से खोलकर अपनी भगनासा को सहलाने लगी।
दूसरी ओर सोफे पर बैठे कार्ल का हाथ वैल के कंधे पर था और वह अब धीरे धीरे उसके स्तन मसल रहा था, जबकि रॉड जांघ पर अन्दर तक हाथ ले गया था और उसकी बाल रहित योनि पर हल्की चपत मारने लगा।
यहाँ तक तो मुझे सब सहज लगा लेकिन मुझे चिंता थी कि वे इसके आगे भी जा सकते हैं और हो सकता था कि इन हरकतों से करेन नाराज हो जाएगी।
वैल ने करेन से पूछा,"तुम्हें बुरा तो नहीं लग रहा? मैं तुम्हें परेशान नहीं करना चाहती, मैं वादा करती हूं बस हम थोड़ी शरारत करेंगे।"
"नहीं !" अनमने भाव से करेन ने कहा,"नहीं, मैं ठीक हूँ !"
उसकी आँखें कार्ल के उत्तेजित होते लिंग पर गड़ी थी। निश्चित रूप से करेन और मैंने कभी अश्लील फिल्मों के अलावा इस आकार का लिंग पहले नहीं देखा था। यह दस इंच लंबा तो होगा ही और उसी अनुपात में मोटा, और सीधे ऊपर अपनी मोटी काली चमड़ी से बाहर निकल कर पेट पर नाभि तक पहुँच रहा था। उसकी बैंगनी रंग की चमड़ी से बड़ा बल्बनुमा सुपारा आधा दिख रहा था। मुझे पता नहीं था करेन क्या सोच रही थी लेकिन इस बात ने मुझे लगभग डरा ही दिया।
वैल ने करेन की नीचे टकटकी वाली निगाहों का पीछा कर लिंग की तरफ देखा और कहा,"वाओ...!"
फिर उसने मेरे अनुमान के मुताबिक़ उसने रॉड के घुटने पर एक पैर रखा और दूसरा दूसरा कार्ल पर और फिर अपनी विस्तृत योनि हमें दिखाने के लिए खोल दी। फिर उसने अपने दोनों हाथ बढ़ाकर एक एक लंड पकड़ लिया और बहुतधीरे से उन्हें हस्तमैथुन देने लगी।
"अरे कार्ल ! यार तुम लोग तो बेचारी करेन को बुरे सपने दिखा रहे हो !" ट्रेव हँसा।
"ओह मैं हानिरहित बूढ़ा आदमी हूँ।" कार्ल ने कहा।
"आप सब जानते हैं !" रॉड ने अब वैल की योनि में दो उंगलियाँ अंदर-बाहर करनी चालू कर दी थी।
ट्रेव की एक उंगली डेव की योनि में थी और वह अपने अंगूठे से उसकी भगनासा को रगड़ रहा था जबकि वह उसके लंड को हिला रही थी और उसकी गेंदों के साथ खेल रही थी। कार्ल ने वैल का चुचूक अपने मुँह में लेने के लिए सिर को टेढ़ा किया तो वह आह भर कर करेन पर मुस्कुराई।
रॉड का लिंग औसत आकार का था जो कार्ल की तुलना में बौना दिखता था, लेकिन वैल ने उन दोनों का ही ध्यान रखा। उसके दोनों हाथ लिंग की जड़ से ऊपरी सिरे तक एक जैसे ही चल रहे थे। उसके बाएं हाथ में हालांकि रॉड का लिंग छिप गया था जबकि कार्ल के विशाल लिंग के चारों ओर लिपटा बहुत छोटा लग रहा था।
वे सभी अब गहरी साँस लेने लगे थे और आह-सिसकारियों और उन्मुक्त हंसी से अलग वहाँ कुछ नहीं था।
करेन और मैं स्तंभित बैठे थे मेरे लिंग भी पत्थर सा सख्त था और पहले से ही थोड़ा गीला हो गया था। मैंने उस पर तौलिया डाल रखा था पर अब मुझे नहीं लग रहा था कि अब ज्यादा परवाह की जरूरत थी। चारों ओर के दृश्य में करेन की आँखें बहुत व्यस्त थी।
डेव ने मेरी ओर देखते हुए इशारा किया कि मैं अपने लिंग को अनावृत कर दूँ ताकि वह इसे देख सके।
वह कुर्सी पर बैठी थी और उसकी दोनों टांगें ऊपर उठी थी। ट्रेव उसकी योनि को और अधिक खोलने की कोशिश कर रहा था और उसकी भगनासा को चुटकी से मसल रहा था।
जैसे ही उसने उसके गले और कंधों को चूमा वह अपने हाथ पीठ के पीछे कर ट्रेव के लिंग का जल्दी जल्दी हस्तमैथुन करने लगी।
करेन आगे झुक कर कार्ल के लंड को देखने में लीन थी, वेल का हाथ ऊपर और नीचे लिंग पर फिसल रहा था। कार्ल ने बायां हाथ अब उसकी योनि पर ले गया और थोड़ा खींचने के साथ उसकी भगनासा को मसलने लगा जबकि उसका पति कार्ल के साथ अपनी उंगलियाँ वैल की गहराई में चला रहा था। वैल के चेहरे पर प्यारी मुस्कान थी और आँखें लगभग बंद थी, केवल करेन को देखने के लिये वह उन्हें खोलती थी। मुझे ऐसा लग रहा था कि अति-उत्तेजना के समय में भी वह मेरी बहन को दिये वादे को भूली नहीं।
करेन अचानक उठ खडी हई और सोफे की ओर बढ़ने लगी। मैं एक पल के लिए घबरा गया और उसे वापस खींचने की कोशिश की लेकिन वह मुड़ी और मुस्कुराई,"चिंता मत करो। मैं कुछ नहीं करने वाली हूँ।"
कहानी अभी जारी रहेगी !

शनिवार, 27 अगस्त 2011

बहन का नग्नता से परिचय-8

मंगलवार की रात जब मैं और करेन पार्टी के लिए शिविर की ओर चले तो चारों ओर अंधेरा हो चुका था। मौसम गर्म था और करेन ने अपना हिंदेशियन वस्त्र भी आखिरकार छोड़ दिया था लेकिन हम दोनों ने तौलिये साथ में जरूर लिये थे। करेन ने अच्छी तरह से अपने बाल बांधे थे और मेकअप किया था। आज उसने काली जी स्ट्रिंग की पैंटी पहनी थी पर मैं निश्चित रूप से नंगा था। हालांकि उसने अभी तक पूरी नग्नता में डुबकी नहीं ली थी, फ़िर भी वह अब अपने बड़े स्तनों को दिखाने में निसंकोच और अधिक आराम से थी। वो इस समय भले ही जी स्ट्रिंग पहने थी पर वह उसके नितम्बों तो छिपा कम और दिखा ज्यादा रही थी। कुछ भी कहो- वह इस रूप में बेहतर लग रही थी। उसके नितंब बहुत गोल और बहुत भरे हए है और उस समय उसकी उम्र के हिसाब से अविश्वसनीय रूप से भारी लग रहे थे। जैसे ही वो चलती थी उसके हर कदम के साथ कि वे एक खूबसूरती से थिरक रहे थे।
"छोटे भाई ! इस नग्न बारबेक्यू पार्टी पर क्या होता है ?" उसने मुझसे पूछा।
"मुझे ज्यादा तो पता नहीं पर किसी भी अन्य बारबेक्यू पार्टी की तरह मुझे लगता है कि शराब, खाना-पीना और बहुत सारी धींगा-मस्ती और कुछ खराब पकाया खाना ही होता होगा !" मैंने हँसते हुए जवाब दिया।
"क्या पता वो लोग तुम्हारा ही कबाब न बना दें !" वह हँसीं,"जैसा हमने वैल और रॉड को देखा है। उनको देखकर तो मुझे लगता है कि यह एक अपनी एक आम बारबेक्यू पार्टी से भी अधिक भी हो सकता है।"
"क्या मतलब ?"
"तुमने ध्यान नहीं दिया वे आज क्या पहने थे !" उसने पूछा,"वैल के चुचूकों पर गहने थे और रॉड लिंग पर छल्ला पहने हुए था !"
"तो ?"
"मुझे तो लगता है वे स्विंगर(साथी बदलने वाले) या कुछ और हो सकते हैं !" उसने कहा।
"ओह, मुझे इस पर शक है !" मैंने कहा।
"उनकी इस उम्र के कारण ?"
"हाँ …"
"उम्र का इसके साथ कुछ लेना देना नहीं है।" उसने कहा,"और एक कारण और भी है कि इस तरह की जगह स्विंगर लोगों को कम से कम आकर्षित करती है।"
"हो सकता है !"
मैं रूक गया और उसके कंधे पर अपना हाथ रख दिया।
मैंने फिर कहा,"अगर तुम अभी भी यहाँ असुविधाजनक अनुभव कर रही हो तो हम पैक करके वालिस घर जा सकते हैं।"
"मैं यहाँ ठीक हूँ।" वह मुस्कुराई।
"दरअसल जैसा वैल ने कहा था ‘नग्नतावाद स्वतंत्रता के बारे में है। क्या दिखाना है या क्या नहीं दिखाना है आप फैसला करने के लिए स्वतंत्र हैं !’ और मुझे तो ऐसा लगता है मैं एक स्कूली छात्रा की तरह डर से भागने के लिए नहीं जा रही हूँ। मैंने सिर्फ अपने आप स्वयं की सीमा निर्धारित की है कि मैं क्या चुन सकती हूँ।"
एक बार मैं फिर से चकित और गर्वित था कि कैसे वह नग्नतावाद के साथ सिर्फ दो दिनों में ही सहज हो गई थी। हम गोधूलि के समय हाथ में हाथ डाल कर चल रहे थे।
"क्या तुम और विकी भी पार्टनर बदलने वालों में शामिल हो ?" उसने अचानक पूछा।
यह बात उसने बिना लग लपेट के स्पष्टता से पूछी थी। यह एक ऐसा विषय था जिस पर मैं वास्तव में बात नहीं करना चाहता था। मेरी पत्नी विक्की और मैंने कई मौकों पर अच्छे दोस्तों के साथ कुछ सीमा तक स्विंग किया था लेकिन यौन संबंध का नंगा नाच-दृश्य निश्चित रूप से हमारे लिए नहीं था।
"हम्म … लेकिन पूर्ण रूप से नहीं !"
"पूर्णता से नहीं !" का क्या मतलब हुआ ?" करेन हँसी!
"ओह … इसका मतलब मैं क्या समझाऊँ? यह प्रश्न तो तुम्हें विक्की से पूछना चाहिए !" मैंने उत्तर दिया।
"मैं कोई नादान बच्ची नहीं हूँ !" उसने मुझे घूरते हुए कहा।
हम जल्द ही वैल और रॉड के केबिन पहुँच गए। उन्होंने थोड़े बड़े आउटडोर सोफे और मेज किराए पर लिये थे। यह स्थान शिविर से दूर नदी के ऊपर पहाड़ों के एक शानदार दृश्य के सामने था। डेक के किनारों के आसपास मेज पर मोमबत्तियों की हल्की रोशनी चमक फैला रही थी। वैल ने हमें देखते ही नमस्ते की और खुश होकर लकड़ी की सीढ़ियों से नीचे हमारे स्वागत में चुंबन करने के लिए आने लगी। उसने भी अपने बाल बड़े करीने से ऊपर बांध रखे थे और वह अपने चुचूकों के छल्लों के अलावा वह नाभि में भी एक बटन पहने थी और चुचूकों के छल्ले से एक जंजीर नाभि के बटन तक जुड़ी थी।
बारबेक्यू पार्टी में रॉड अपनी कमर को एक छोटे एप्रन के साथ ढके खड़ा था। उसने भी अभिवादन में अपने हाथ हिलाए। ट्रेव उसके बगल में बीयर लिये खड़ा था जबकि कार्ल डेव को बाहर डेक के पास मेज पर सलाद सजाने में मदद कर रहा था।
मैंने शराब की एक बोतल वैल को सौंप दी और हम डेक के लिए ऊपर चढ़ गए। डेव हमें अभिवादन चुंबन देने आगे आई।
"हाथों के लिये मुझे माफ कीजिए इस समय लहसुन और प्याज में बुरी तरह सने हैं ….." वह हँसी।
मैं देख कर हैरान था है कि उसके झांटों की सुंदर सुनहरी पट्टी अब पूरी तरह साफ़ थी। इससे उसकी योनि और भी गोल और नर्म दिख रही थी। मैंने कार्ल के साथ हाथ मिलाया और एक ट्रेव द्वारा पेश किया गया बीयर का ग्लास स्वीकार कर लिया। वैल गर्म जोशी के साथ करेन से मिली और उसे भी वाइन का एक ग्लास पकड़ा कर उसे बड़े तीन सीटों वाले सोफे के पास ले गई।
"चलो डेव ! उठो यहाँ से ! यह एक बारबेक्यू है, इसमें पुरूष को ही सारे काम करने होते हैं।" उसने कहा।
वैसे तो यह सब कुछ रॉड के जिम्मे था और हम अन्य तीन व्यक्ति सिर्फ यह दिखाने के लिए कि हम खाना पकाने के लिए उसके साथ हैं, उसके पास खड़े हो गए। जिस प्रकार आमतौर पर पुरुष बारबेक्यू में खड़े होकर अप्रासंगिक बातें करते हैं, हम भी सामयिक टिप्पणी कर रहे थे।
रॉड चिकन के टुकड़ों और भेड़ के मांस को मसालेदार तेल में भून रहा था और कुछ जोरदार कवाब, कटलेट और स्कॉच से भरी स्टीक्स् तैयार कर रहा था। स्वादिष्ट खाने की बहुत अच्छी महक आ रही थी। सारा काम समय से पूर्ण हो गया था जिससे यह सब एक ही समय में मेज पर आ सकता था।
जैसे ही खाना मेज पर पहुँचा, रॉड ने सब को कहा- आ जाएँ !
हम सभी बड़ी मेज के चारों ओर बैठ गये। करेन मेरे दाहिने तरफ और वैल मेरी बाईं तरफ थी। डेव और ट्रेव हमारे सामने बैठे थे। मेज के दोनों किनारों पर रॉड और कार्ल थे। रॉड करेन के करीब था और कार्ल वैल के पास।
मुझे यह सब देख कर आश्चर्य हो रहा था जैसे यह सब व्यवस्था कार्ल को मेरी बहन से दूर रखने के लिए ही की गई हो।
भोजन एक बहुत बढ़िया था। हमने धीरे धीरे खाना चालू कर दिया और साथ साथ बातों का दौर भी चलने लगा। ट्रेव के पास तो चुटकलों का पूरा खजाना ही था और हम सब उसके सुनाये चुटकलों पर हँस रहे थे। हम सभी एक दूसरे के साथ बहुत ही सहज महसूस कर रहे थे।
खाना लगभग ख़त्म हो गया तो अंततः वैल ने अचानक करेन से कहा,"दो दिन में ही तुम नग्नतावाद के साथ बहुत आराम के साथ दिख रही हो ? तुमने यह बहुत अच्छा किया।"
"मम्मं … !" करेन ने हँसते हुए जवाब दिया,"उतने आराम से तो नही हूँ ! मैंने अभी भी अपनी छोटी पैंटी पहन रखी है।"
"ओह… पर कौन परवाह करता है?" रॉड ने कहा,"हम इसी बात से खुश हैं कि तुम हमारी नग्नता के साथ आराम से हो !"
"मुझे लगता है कि यह बहुत अच्छी बात है और अगर हम कभी यहाँ से दूर मिलें तो मुझे तुम लोगों को कपड़ों के साथ देखना अजीब लग सकता है। मैंने हमेशा तुम्हारे नग्न रूप के बारे में ही सोचा है। " करेन ने कहा।
"अगर तुम अपनी छोटी पैंटी पहने रखना चाहती हो तो कोई बात नहीं ! यह तुम्हारी अपनी पसंद है।" रॉड ने कहा।
"ठीक है ! टॉपलेस होने तक तो ठीक है ! पर मैं नीचे के लिए अभी भी तैयार नहीं हूँ।"
"तैयार ?" कार्ल ने पूछा।
"ओह, तुम्हें पता है !" करेन ने थोड़ी घबराहट से कहा।
"मुझे अभी भी अपने नीचे के छोटी छोटी जंगली झांटों का डर है।"
"ओह… इस बारे में चिंता न करो !" डेव ने कहा,"यह बहुत निजी पसंद है ! मैंने भी आज ट्रेव के लिए अपने झांटों की पट्टी से बस छुटकारा पा लिया है।"
डेव उठ खड़ी हुई और उसने अपने वस्ति-स्थल पर हाथ फिराते हुए कहा,"देखो, अब कितनी चिकनी लग रही है।"
"यह सच है !" ट्रेव ने मुस्कुराते हुए कहा,"मुझे हमेशा ही यह शेव की हुई बहुत खूबसूरत और स्वर्ग की तरह लगती है।"
"हम सभी के लिए भी यह काफी सुंदर तोहफा भी है!" रॉड ने कहा।
डेव हँसी और उसने अपने कूल्हों को आगे धकेल दिया और हम में से सभी यहाँ तक कि करेन भी मेज पर थोड़ा सा आगे उसकी ताजी शेव की हुई चिकनी योनी को गौर से देखने के लिए झुकी। उसके मोटे सुनहरे बाल पूरी तरह से साफ़ थे। उसकी योनि के होंठ हालांकि बहुत छोटे थे और गोलमटोल मांस में छिपे दिख रहे थे पर उसका योनि मुकुट यानि भगनासा का दाना बहुत चमकदार था और आसपास की त्वचा से थोड़ा ही अधिक गहरे रंग का था।
"बहुत सुंदर !" वैल ने कहा।
"कमाल है !" कार्ल ने भी सांस भरी।
"ट्रेव, तुम बहुत भाग्यशाली व्यक्ति हो !" रॉड ने कहा।
करेन और मैं वास्तव में कोई टिप्पणी नहीं करना चाहते थे लेकिन हम दोनों डेव पर मुस्कुरा रहे थे।
अब वह फिर से बैठ गई।
"मुझे लगता है मुझे भी नंगे चलने से पहले निश्चित रूप से पहले उस्तरे की जरूरत पड़ेगी।" कुछ सोचने के बाद करेन ने कहा और उसने नीचे देखा और फिर धीमे से अपनी जी-स्ट्रिंग पर अपनी उंगली घुमाई।
इस समय वह मेरे बहुत निकट बैठी थी। मैंने नीचे करेन की जांघों पर एक नजर मारी। जब मेरी नजर उसकी योनि के ऊपरी भाग पर गई तो घनी काली घुंघराली झांटे उसकी उंगली पर गुच्छे के रूप में लिपट रही थी। उसने मुझे अपनी योनि की ओर ताकते हुए देख लिया था। उसने इस खूबसूरत नज़ारे को बंद करने से पहले एक अजीब सा चेहरा बना लिया।
अगले आधे घंटे के लिए हम सभी वहीं बैठ गये और झांटों के रखने और उनके खिलाफ तर्क-वितर्क करते रहे। हम सभी ने अपनी निजी पसंद पर चर्चा की और सभी ने यह स्वीकार किया कि हम साधारण रूप से अपने जननांगों पर चर्चा करने के बजाय दूसरे की झांटें (केश विन्यास) देखना पसंद करते हैं।
वैल और रॉड को झांटें पसंद थी। कार्ल को सब 'प्राकृतिक' रूप में पसंद था। उसके शरीर पर अत्याधिक बाल थे और अगर वह झांटें साफ करता तो अजीब लगता और उसको अपने पूरे बदन के बाल साफ करने पड़ते जो कि एक बहुत बड़ी मुसीबत होती।
डेव या तो पूरी तरह से चिकनी रखना पसंद करती थी या फिर एक पतली पट्टी। यह सब उसके मूड पर निर्भर करता था।
ट्रेव अपनी गेंदें चिकनी रखता था पर पेट के नीचे केवल एक छोटा सा झांटो का गुच्छा रखता था लेकिन निश्चित रूप से अपने लिंग पर कोई बाल नहीं रखना पसंद करता था।
"मैं आपके बारे पता नहीं लगा सकती हूँ टिम !" वैल ने नीचे मेरे लिंग की ओर देखते हुये कहा।
"आपका क्या मतलब है?"
"आप बहुत झांटों वाले प्रतीत नहीं हो रहे है, लेकिन आप हजामत भी ज्यादा बनाने का काम करना पसंद करते नहीं लगते।"
"ओह…. वैसे प्राकृतिक रूप से मेरे बाल सुनहरे और बहुत पतले हैं तो वहाँ कभी ज्यादा बाल नहीं हैं।" मैंने कहा।
"मैं देख रही हूँ !" उसने कहा,"आपकी गेंदें चिकनी लग रही है लेकिन वे हैं नहीं !" उसने मेरी जांघ पर अपना हाथ घुमाया और मेरी गेंदों को पकड़ लिया।
करेन ने फटी आँखों से उसकी ओर देखा। वैल ने अपनी गर्म उँगलियों से मेरे वृषणों(अण्डों) के ठीक ऊपर बालों को घुमा कर पकड़ा और और फिर अपनी उंगलियाँ मेरे वस्ति-स्थल के ऊपर बालों के मध्य फ़िराई।
"ओह !" वह हँसी।
"जल्दी करो करेन ! उसे एक नैपकिन दो !"
वैल का स्पर्श से मैं लगभग पूर्ण उत्तेजित हो गया था और मैं अपनी कुर्सी को खिसका कर अपने खड़े लिंग को मेज के नीचे छुपाने का संघर्ष कर रहा था। करेन ने मुझे एक बड़ी सी नैपकिन पकड़ा दी और मैंने इसे अपने सख्त होते लिंग पर छिपाने के लिये डाल दिया।
"क्षमा करें !" मैंने कहा।
किसी और से भी अधिक करेन अभी भी चुपचाप अपने सर को नीचा किये मेरे सख्त लिंग को देख रही थी। पर शुक्र था कि मेरा लिंग कपड़े से छुपा हुआ था।
"अरे नहीं !" वैल ने कहा,"यह मेरी गलती है ! मैं माफी चाहती हूँ करेन…."
"कोई बात नहीं !" करेन ने कहा,"मैं जानती हूँ कि इस प्रकार की बातें होती हैं।"
"पुरुष झट से उत्तेजित हो जाते हैं लेकिन स्त्रियों की उत्तेजना का कोई पता नहीं चलता। इसलिए नग्न रिजोर्ट में इस प्रकार का कोई नियम बनाए रखना अधिकांश पुरुषों के लिए के लिए बहुत मुश्किल है।"
"ठीक है। लेकिन यह एक नियम से अधिक एक दिशानिर्देश है।" एक मुस्कान के साथ ट्रेव ने कहा।
करेन ने कहा," बेचारे टिम जैसे पुरुषों के लिए मैं खेद ही प्रकट कर सकती हूँ।" उसने मेरे कंधे पर अपना हाथ रख दिया,"अगर गिनती की बात की जाए तो पुरुष एक दिन में 10-15 बार उत्तेजित होता है। मतलब है कि अगर नग्न पुरुष में उत्तेजना नहीं है तो वह पुरुष ही नहीं है। मुझे तो नहीं लगता कि इस तरह की एक उत्तेजना अतिक्रमण है।"
"यह अनुसंधान का विषय हो सकता है।" मैंने कहा।
फिर करेन ने दूसरों को समझाया कि दरअसल वह गंभीरता से नग्नतावादियों पर एक पेपर लिखने के बारे में सोच रही थी और उनकी सभी की राय उसके लिए बहुत लाभकारी थी।
"ठीक है !" वैल कहा,"मुझे उत्तेजित लिंग आकर्षक और प्रशंसा पात्र लगते हैं और अगर पुरुष मुझे देख कर उत्तेजित हो गया है तो इसका मतलब यह नहीं कि वह कूद कर मुझ पर चढ़ जायेगा।"
"लेकिन उस पुरुष की इच्छा वही होती है।" डेव ने कहा।
"नहीं !" वैल ने समझाया," पुरुष अपने आपको नियंत्रित करके अपने कार्यों को नियंत्रित कर सकते हैं। जैसे टिम को अभी एक उत्तेजना मिली लेकिन उसने मुझे मेज पर लिटा कर मेरे साथ यौन-क्रिया तो नहीं की या करने की कोशिश की।"
"अभी मैं वर्तन धोने के लिए जाती हूँ, थोड़ी देर में आती हूँ।" वैल ने मुझे देखा और चली गई।
हम सब सफ़ाई करने में मदद करने में व्यस्त हो गये और मैं सामान अन्दर ले जाने में वैल की मदद करने लगा।
"वैल ! क्या तुम लोग पार्टनर बदलने वालो में से हो?" मैंने पूछा।
"ओह…. हाँ कभी कभी.. पर तुम क्यों पूछ रहे हो ?"
"यह मेरे साथ ठीक नहीं होगा," मैंने कहा,"कृपया मेरी बहन को उत्तेजित मत कर देना !"
वैल ने मेरा हाथ पकड़ा और मेरे चेहरे को नम्रता से देखा,"तुम चिंता मत करो। यहाँ कोई किसी नंगे नाच का आयोजन नहीं कर रहा है और इसके अलावा, यदि तुम्हारी बहन यह सब सवाल पूछ रही है मुझे लगता है वह खुले विचारों की है और तुम्हें उसके इन विचारों को महत्व देना चाहिये।"
"शायद हाँ !" मैंने कहा,"लेकिन वह मेरी बहन है और मैं उसे यहाँ ले आया हूं और मुझे उसका भला-बुरा देखना है।"
"यह तो बहुत ही प्रशंसनीय बात है," वैल ने कहा,"लेकिन मैं इसे फिर से दोहराती हूँ कि हम किसी को किसी काम में मजबूर करने में विश्वास नहीं करते। चलो, अब हमें पार्टी का आनंद लेना चाहिये !"
सफाई कर लेने के बाद हम सब वापस बैठ गये और रेड वाइन का आनंद लेने लगे।
कहानी अभी जारी रहेगी !

शनिवार, 20 अगस्त 2011

गोकुल सोसायटी .....

गोकुल सोसायटी .....जेठा लाल नाहा कर बाथरूम से बहार nikalne के साथ वह अपनी बीवी दया मैं आवाज़ deta है ..."दया, nashta lagao करें रंग dukaan के लिये देर हो jayega."Tabhi दया कमरे मुझे आती ... है जहां जेठा समय केवल कमर मुझे एक तौलिया lapete huwe ड्रेसिंग टेबल के सामने अपने चेहरे बराबर mardon वाली निष्पक्ष और लवली lagate huwe अपने आप को nihaar रहा होता है और उसका dimaag बबिता की khubsurat और सेक्सी चेहरे और shareer के मेरे नंगे सोच रहा होता है."चलो साले Shahrookh एक ऐसी क्रीम का नाम bataya की माई भी जवान chokara dikhunga, tabhi बबिता को पाटा कर chod sakta हुन है NE. Saali क्या patakha maal है, बड़ी बड़ी 38 "की चूचियां, और उसकी gaand के क्या kahne, जैसे भगवान पूर्वोत्तर (तरबूज) tarbooj बड़े मैं tukado मुझे कर के फिट कर दिया हो."सुनो उप sochne के साथ वह उसके लंड मुझे halchal सान लगी और उसका लंड dheere dheere jagne लगा. Wo apni सोच से टैब बहार आया प्रहार दया पिचे से आ कर उसको अपनी baahon मुझे jakad उसके खाड़े होटल und बराबर हाथ लगा दिया.दया: Areee! Tappu के पिताजी, तु मेरा राजा जानी Kyu जग रहा है. कहीं तुम हमें chudail बबिता की Gaand के मुझे नही सोच रहे नंगे. (दया को भी पाटा था की उसका पति बबिता की gaand का दीवाना है.)जेठा: दया प्रिय! तू भी क्या बात करती ... है तुम्हारे नंगे मुझे सोच रहा था के लिए माई.Idhar दया उसके लंड को apne haatho मुझे ले sahlaane लगी.जेठा पूर्वोत्तर अभी कल रात वह दया की jabardast चुदाई की थी, ये सोच कर की दया 1-2 दिन shant rahegi और wo araam से बबीता को लाइन मार sakega shayed. लेकिन तु दया, पाटन नही iski चूत मुझे कितनी garmi है जो प्राथमिकी से लंड Lene के लिये machalne लगी.जेठा: Aree! Chhodo ... मुझे जल्दी से Nashta lagao ... करें रंग देर हो jayega.दया: Bura सा muh banate huwe: हाँ हाँ .. चलो, अभी बबिता आ जाति तुमको देर नही होता. मुझसे अब तुम्हारा मन भर गया है.जेठा: ऐसा नहीं है दया प्रिये, कल रात मुझे कितना मस्ती किया था humne. अभि काम का समय है.दया, nashta lagati है, जेठा और उसके बाप nashta करते हैं Tabhi दया उसका luchbox पैक कर के जेठा padati हुई बोली ....
"Dekhoji, seedhe dukaan जना, कहीं idhar udhar dekhne फिर किसी से बात करने की कोई jarurat नही, तुम pahle वह लेट हो चुके हो." और मान मुझे सोच रही है "तु saala kamina, पाटा नही हमें kutiya मुझे क्या देख लिया है जो प्रहार देखो उसकी चूचियां saali के नही बड़े gaand मैं वह ghoorta rahata है बड़े. मेरे पास है भी, lekin haraami, मेरी तरफ tabhi dekhta है प्रहार साले को मेरी चूत Marni होती है. "
जेठा बिना कुछ बोले टिफिन लेकर बहार आ गया. सुनो saali भी दया न प्रहार देखो ऐसा jhatka deti है की khada लंड भी saala murjha JATA है. Saali नही चाहती की माई किसी भी maal की तरफ dekhu, और अपनी बबिता प्रिय की तरफ bilkul भी नही. उसको क्या पाटा की बबिता क्या cheej है. आह! क्या सेक्सी बदन है मेरी जान बबिता के. उसके खाड़े खाड़े और भाई bharkam nukile स्तन और उसका पालतू कितना चिकना ... है ओह! बबिता की gaand क्या kahne के ... दिल करता है की उसकी मोती gaand की gahri khaai मुझे लंड दाल कर FAAD धुंधला काले रंग .... और जेठा का हाथ anjane मुझे गया वह उसके लंड बराबर pahunch.
अभि सोसायटी के गेट बराबर pahuncha वह था की, Ooouuuccchhh ... हे भगवान! एक मधुर सी lekin दर्द भरी आवाज़ sunkar wo जल्दी से फाटक के बहार आया. अभि wo dekhta की कौन है Tabhi वाही मधुर आवाज़ प्राथमिकी से उसको sunai di "Jethaji, कृपया मेरी मदद करो."जेठा पूर्वोत्तर आवाज़ की दिशा मुझे देखा, बबिता सड़क बराबर अपने एक जोड़ी मैं pakad कर बैठी थी. उसके khoobsurat चेहरा दर्द से ekdam laal dikh रहा था.जेठा: Babitaji आपको क्या huwa?बबिता: jethaji कृपया मेरी मदद करो, Ricshaw से utarte समय मेरा ऊँची एड़ी sandle कीचड़ गया जिस से मात्र जोड़ी मुझे गया है, मोच, कृपया, आप मुझे मेरे घर तक छोड़ dijiye.जेठा vishwaas नही हो रहा था की jiske najdeek आने के liye wo itne डिनो से taras रहा था wo हमें खुद से रही है maang मदद. जेठा की baanche khil गयी. मान मुझे sochne लगा ... वाह! माई अपने सपनो की रानी मैं chhu sakunga आज. Wo आज कुछ दोस्त के लिए मेरी baahon मुझे होगी. और wo जल्दी से बबीता की तरफ badha, जैसे की उसको डार हो की कोई और aakar बबिता मैं न उठा डे.
जेठा: हाँ ... हाँ Kyu ... नहीं आप के लिए अपनी हो, isliye मेरा फर्ज़ है, और मान मुझे सोच रहा है की "आज iski चूचियां और chutad chhune का वह हसीन mouka है bahot तु. Saali की gaand मैं jarur ragdunga आज "इतना sochte वह जेठा का लंड उसके मुझे पंत ubharne लगा. ...
लेकिन tabhi उसके सामने उसकी बीवी दया का चेहरा सामने आ गया की दया dekhegi तो jarur ladegi. दया का khyaal आते वह जो उसका लंड बबिता की कल्पना से khada हो रहा था wo bichara भी प्राथमिकी से तो गया. प्राथमिकी जेठा पूर्वोत्तर ... सोचा Jahannum मुझे गई दया और Dukaan ... pahle बबिता प्रिय.और जेठा jhuk कर अपना एक हाथ बबिता के chutado बराबर और doosre मैं उसके Peth के नीचे कर बबीता को किसी तरह khada किया प्राथमिकी उसके एक हाथ मैं अपने kandhe बराबर रख उसकी एक chuchi को apne seene से sataye और एक हाथ को उसकी najuk patli सी कमर मुझे दाल उसको सहारा देते huwe उसके घर की तरफ badh गया.Jethalal का लंड itni मस्तूल हसीना के kareeb rahne भर से वह के अंदर khada हो गया, जिसे बबिता ने भी mahsoos कर लिया था, पंत kyuki उसका एक बार पट्टी जेठा के लंड बराबर चला JATA था हाथ. Yadi उसको समय दर्द न हो रहा wo जेठा के लंड को वह जाति खा करने के लिए होता है ....जेठा बबिता को उसके बेडरूम मुझे ले जा कर धीरे से Lita deta है और उसके pairon मैं halke halke sahlata .... है लेकिन tabhi wahan दया और अंजलि आ जाति हैं. अंजलि पूर्वोत्तर वह जेठा मैं अपनी bahon मुझे भर कर बबिता को उसके घर मुझे jate देखा था. टैब wo turant bhagi हुई दया के पास ... गई और bataya की जेठा भाई बबिता मैं कैसे लेकर अंदर गया है. दया gusse मुझे बबीता के घर के अंदर dakhil हुई.दया: आप अभी तक yahi हो? Dukaan नही जना? और है मैं baahin मुझे भर कर क्या करने जा रहे हैं?जेठा: ..... दा दया ... बबिता जी मैं कहवा गयी मैने सहारा डे कर यहाँ तक ला दिया है. तुम तो हमेशा galat वह sochti हो.दया: थिक है थिक ... है आप dukaan .. जाओ हम लॉग iski मदद कर देंगे.जेठा: ठीक माई dukaan JATA ... हुन और जेठा dukhi मन से dukaan जाने के लिये निकल JATA है.अंजलि और ... बबिता के moch बराबर दर्द दया बेम लगा कर अपने अपने घर Chali जाति हैं. और udhar जेठा बबिता केन हाथ और mulayem chuchiyon के स्पर्श को याद कर बार बार uttejit होता rahata है ... और aakhirkaar dukaan के शौचालय मुझे जा कर मठ मार के अपनी garmi मैं shant करता है.
शाम को जेठा dukaan से आता ... है थोड़ा अँधेरा भी हो गया है ... wo seedhe बबीता के घर के पास जा कर कुछ डेर rukta है ... तु जनवरी पूर्वोत्तर मैं की अंदर अय्यर है या नही ... प्रहार उसको कोई आवाज नहीं sunai deti धीरे से घर के अंदर dakhil होता है ....बबिता मस्ती से अपने बेडरूम मुझे साड़ी pahan कर सोइ हुई ... थी jisme से ना सिर्फ उसकी गोरी sudol tangen dikh रही थी balki उसकी सारी इतना uppar उठा गया था की उसकी patli सी panty, जो की उसके bhaari gaand की dararo मुझे ghusi हुई थी wo भी dikh रहा था.जेठा ये सब देख paseene paseene हो गया ... न सिर्फ उसका दिल, Dimag balki उसके लंड मुझे भी halchal सान लगी थी. जेठा चुपके से उसके बिस्तर के पास गया और अपने kanpte हाथ मैं उसके lagbhag Nange chutad बराबर ... रखा जेठा के अंदर 1100 वोल्ट का मौजूदा गया वह दाऊद जैसे ... lekin यहाँ जेठा पूर्वोत्तर एक बात गौर किया की उसके rakhne से हाथ बबिता के shareer मुझे भी कुछ हरकत सी हुई ....Dosto यहाँ बात ये थी की, जब Jethalal सुबह बबिता मैं उसके मेरे घर कर गया और अंजलि और दया पूर्वोत्तर दर्द छोड़ बेम लगा दिया टैब कुछ डेर बाद बबीता को kafi araam ... मिला उसके बुरा बबिता के khayalo मुझे जेठा के टच Kiye huwe लंड और उसके seene से दाबी अपनी chuchi की याद ... एएआई बबिता भी बराबर सोच कर kafi गरम और chudasi हो गई थी और उसको पाटा था की शाम को जेठा उसको dekhne के bahane उसके घर jarur आएगा बात है .....
बबीता के दिल मुझे बार बार तु khayaal आ रहा थी कैसे wo Jethalal के लंड से अपनी चूत मैं marwaye. लेकिन शाम मे उस वकत बबिता मैं halki सी neend आ गयी थी सममूल्य सान. lekin प्रहार Jethalal पूर्वोत्तर उसके Nange को स्पर्श किया टैब wo जग गयी थी Chutado ... yahi कारण था की हमें स्पर्श से उसके शरीर मुझे भी jhanjhanhat हुई .... अब wo अपनी aankhe बैंड कर के जेठा की harakaton का आनंद लेना चाहती थी .Udhar जेठा पूर्वोत्तर प्रहार अपने हाथ उसके मस्तूल chutado बराबर firaya जेठा का लंड पैंट के अंदर saanp की तरह fufkarne ... लगा हो भी Kyu ... ना aakhir itni हसीन और मस्तूल maal को स्पर्श जो कर रहा था ... dheere dheere जेठा का हाथ बबिता के chtado से होता huwa उसकी gaand की dararo के बीच से नीचे ले Jakar जेठा का हाथ panty के ऊपर से उसकी चूत की garmi मैं mahsoos कर रहा .... था बबिता की panty uttejana की wajah से गीला हो Chukka ... था जेठा तु dekhkar hairaan राह गया."Saali जागी है क्या? जो iski चूत Gili हो रही .... है फिर किसी से अभी अभी chudwa कर सोइ है? जेठा अपने मन मुझे sochne लगा lekin उसके हाथ बबिता के chtado और चूत Kea के रूप में वह अपनी harkaton मैं jaari रखा हुआ था गुजारें.प्राथमिकी जेठा पूर्वोत्तर थोड़ी हिम्मत jutaya और अपने लंड को पैंट से बहार निकल बबिता के Gaand की dararo मुझे लंड को लगा कर ragadne ... लगा अब उसको तु भी याद नही रहा की yadi wo जग जाएगी टैब क्या होगा ... lekin dosto wo जागी वह थी बस उसको dekhna तु था की जेठा क्या करता है ...जेठा अपने लंड को उसकी dararo के बीच ragadta जा रहा था और aawesh मुझे आ कर उसने एक हाथ से बबीता के स्तन मैं pakad masalna shuru कर ... दिया जेठा इतना uttejit हो गया था की wo लंड ragadte ragadte थोड़ी उसने मुझे बबिता की डेर Gaand की gahri ghaati मुझे अपने virya मैं nikal .... दिया tabhi बहार कुछ आवाज़ एएआई .... wo जल्दी से uth कर अपने पंत को थिक कर बहार आ गया ....बहार कुछ नहीं था .... lekin dosto kahte है ना की प्रहार इनसान की vasna कुछ दोस्त के लिये shant हो जाति है टैब उसके दिल मुझे समाज और घर का डार shuru हो JATA है ... जेठा की gannd भी phatne लगी अब की क्या होगा ..???
जेठा के से गुजारें अब हिम्मत नही रही की wo प्राथमिकी से अंदर आए ... उसने एक baar बबीता के घर की oor देखा प्राथमिकी अपने घर चला गया ....लेकिन udhar ... बबिता wo चुदाई के लिए tadap रही थी .... जनवरी जेठा उसके gaand की gahraiyo मुझे अपने लंड को ragad रहा टैब उसको सुनो mahsoos हुआ की उसका लंड bahot बड़ा है ... wo चुदाई के लिए tadap रही थी .....

तारक महेता का उल्टा चश्मा

आपमें से जो लोग तारक महेता का उल्टा चश्मा नियमित रूप से देखते है, वे ही इस सूत्र को फोलो कर पाएंगे की मै क्या बात कर रहा हू.

--------
डोंन राणा: मेने दयाबेन को किडनेप कर लिया ताकि वो चड्डीगेंग के खिलाफ गवाही न दे सके.
जेठालाल: चलो रास्ते का कांटा गया, अब मै बबिता-जी से शादी करूँगा और जमकर चुदाई भी!
तारक: उसके लिए तो जेठालाल तुम्हे डोन् राणा को बोलके ऐय्यर को भी किडनेप करवाना होगा! और हाँ सुंदरलाल को भी किडनेप करवाना होगा.वरना वो अहमदावाद से १०० लोगो को लेके आ जाएगा तुम्हारी पिटाई के लीए और उनकी टेक्सी का भाडा भी तुम्ही को देना होगा!
--------
माधवी: आहो..क्या तुम पूरा दिन कम्प्युटर पे चिपके रहेते हो..ये आचार-पापड की डिलीवरी देके आओ.
मास्टर भिडे: ओफ्फो माधवी, देख नही रही मै इन्टरनेट पे कितनी अप्रतिम नंगी फिल्म देख के मुठ मार रहा हू. अभी नको, एकबार मेरी पिचकारी छूट जाए तब में जाऊँगा ओके?
--------
हाथी:कोमल डिनर रेडी हुआ की नही?
कोमल:ओफ्फो डॉक्टर हाथी आपको खाने के अलावा कुछ सुजता क्यों नही? अभी तो शाम के केवल ५ बजे है.
हाथी:नही कोमल, खाने के अलवा मुझे चुदाई भी सूजती है, लेकिन क्या करू तुम्हारी जांघे इतनी मोटी है की मेरा छोटा लंड तुम्हारी चुत तक पहोंच ही नही पाता!
--------
तारक: अंजली बहोत हुआ, अब मै तीखा-मसालेदार ही खाऊंगा.
अंजली: अच्छा जनाब! तो याद रखो, यदि मेरी डायटिंग प्लान के हिसाब से बनाई सब्जी नही खाओगे तो रात को चोदने नही दूँगी.
तारक: कोई बात नही, मै मुठ मारके सो जाउंगा लेकिन करेले का ज्यूस नही पिऊंगा.
--------
सोढ़ी: ओ मेरी सोणिये देख गोगी भी स्कुल गया है, और मेने गेरेज से छुट्टी ले लिए है..ओ चल साथ मिलके चुदाई की पार्टीशार्टी करे!
रोशन: ना रे बाबा ना...मेरे को घर में बहोत काम हें.
सोढ़ी:तू पिने भी नही देती और चोदने भी नही देती! पता नही किस जन्म का बदला ले रही है?
--------

चले चंपकलाल C-grade movie देखने...

चंपक(स्वगत) बहोत दिनों से मुठ नही मारी, चलो जेठा से मंदिर जाने के बहाना बनाके, कोई घटिया सी-ग्रेड की फिल्म देख के आता हू!
चंपक: जेठा में जरा मंदिर जा रहा हू, चलो जय जिनेन्द्र.

चम्पकलाल किसी रुपाली थियेटर में जाते है, सी ग्रेड की मल्लू फिल्म देखते है लेकिन उसमे केवल आंटी के स्नान के ही सीन है और वे भी कपड़े पहेने हुए. डेढ़ घंटे तक राह देखने के बाद चम्पकलाल धेर्य खो के चिल्लाने लगते है.

चम्पकलाल (अपनी कुर्सी से खड़े होकर): ए भाई, इस थियेटर का मालिक कोन है....अरे कोई आंटी की भोसड़ा दीखता हो एसी मूवी लगाओ. ऐसे स्नानद्रश्य देख के तो मेरा लंड टाईट होने से रहा!
चंपकलाल की बात से अन्य प्रेक्षक भी सहमत होकर हंगामा शुरू करते है.
थियेटर का मेनेजर दोड के आता है- चाचाजी शांत हो जाइए. देखिये अभी हमारे पास ये ही प्रिंट है. इसमें लास्ट के १० मिनिट में आपको आंटी के बोबे दिख जाएंगे.
चम्पकलाल: ए बबुचक, मुझे बोबे देखेने में कोई इंटरेस्ट नही है. मुझे बस चुत चाहिए चुत!!
थियेटर का मेनेजर: देखिये चाचाजी आप बुजुर्ग है इसलिए हम रिस्पेक्ट से बात कर रहे है. आप भी अपनी भाषा पे संयम रखे.
चम्पकलाल: चल जा जा...पहेले बोलना था ना की फिल्म में भोसड़ा-दर्शन का सीन है ही नही.
थियेटर का मेनेजर: तो क्या साफ सुथरी फिल्म देखने जाते हो तो उधर थियेटर वाला पहेले से बोल देता है की फिल्म में क्लाइमेक्स में क्या होगा? हम टिकट बेचने से पहेले फिल्म की कहानी आपको केसे बता सकते है?
चम्पकलाल: ये सब मै नही जानता, या तो तुम दूसरी फिल्म लगाओ या मेरी टिकट के पैसे वापस करो.
थियेटर का मेनेजर: देखिये अब बहोत हुआ. आप चुपचाप फिल्म देखे या चलते बने. वरना...!!
चम्पकलाल: वरना क्या????? धमकी किसको देता है?
थियेटर का मेनेजरअपने हट्टे-कट्टे पहेलवानो को इशारा करता है)
पहेलवान चम्पकचाचा को उठाके बाहर फेंक देते है.
चम्पकचाचा सिनेमा के बाहर खड़े खड़े गालियाँ बकते है. तभी बनवारि उन्हें शांत करता है. बनवारी पास ही के एक कोठे में दल्ले का काम करता है.

बनवारी: अरे चाचाजी क्या हुआ?
चम्पकलाल: देखो ये सिनेमा वाला....साला ढंग की फिल्म नही दिखता, मेरे तो बीस रूपये पानी में गए. आंटी की भोस तो दिखी ही नही.बोबे दिखने के बीस रूपये ले लिए!!
बनवारी: तो आप हमारे साथ चले, ये फिल्म में का रखा है. हम आपको असली भोसड़े के दर्शन करवाते है!! आप एकबार शबनमबाई की भोस के दर्शन कर लीजिए, कभी सिनेमा जाने का नाम नही लेंगे.
चम्पकलालकुछ विचार कर के) लेकिन खर्चा कितना?
बनवारी: वैसे तो ५०० रूपये लेकिन आप सीनियर सिटीजन है इसलिए चलिए ३०० में ही!
चम्पकलाल:लेकिन में तो घर से केवल १०० रूपये ही लेके चला था.
बनवारी:हाँ तो १०० चलेगा.
चम्पकलाल:लेकिन उसमे से ३० रूपये तो रिक्शावाले को यहा आते वक्त दिए.
बनवारी:हाँ तो ७० में ही सही
चम्पकलाल:लेकिन उसमे से २० तो फिल्म की टिकट में चले गए
बनवारी:हाँ तो ५० चलेगा.
चम्पकलाल:उसमे से ३० वापस रिक्शा पकड़ के घर जाने के लिए चाहिए ना?
बनवारी:अच्छा भाई २० में चलो.
चम्पकलाल:क्या?? २० बहोत ज्यादा है. दस रूपये से ज्यादा नही दूंगा. मुझे चाय-नाश्ते के लिए भी तो १० रूपये चाहिए ना?
बनवारी (ये एक तो महंगाई मार गयी है, पिछले तीन दिनों से कोई ग्राहक नही मिला, उपर से पुलिस का हफ्ता. चलो भागते भूत की लंगोटी ही सही)
बनवारी: ठीक है चाचाजी १० रूपये बस! अब चलो...


आगे क्या होगा? जानने के लिए...इंतजार करे!

फिल्म की शूटिंग के बाद

-ि .

इनका ढाई किलो का लंड, जिस चुत में पड़ता है वो चुत उठती नही, 'उठ' जाती है. इसलिए तो कमबख्त आज तक इनकी शादी नही हो रही है. आखरी बार गदर फिल्म की शूटिंग के बाद, सनी पाजी ने अमीषा पटेल से शादी का प्रस्ताव रखा तो मालुम है क्या जवाब मिला?
"अंड मंड लंड,
तेरा ढाई किलो का लंड,
मेरी नन्ही मुन्ही भोस में,
केसे जाएगा??"

तो सनी पाजी बोले, कोई गल नही, जब तुम किसी छोटे लंड वाले फिल्म-डायरक्टर के पास जाओ और तुम्हारी चुत का बम भोसड़ा बन जाए तब मुझे बुला लेना.कई साल बीत गये लेकिन अभी तक सनी पाजी को न्योता नही मिला बस मिलती रही तो "तारीख पे तारीख, तारीख पे तारीख..."
तो मित्रों यदि आपके गली महोल्ले में कोई एसी हिम्मतवाली महिला हो जोकि सनी पाजी के ढाई किलो के लंड को झेल सके तो प्लीज कांटेक हिम इमीजियेटली!


मैं राखी सावंत नही, पुरानीवाली राखी गुलज़ार की बात कर रहा हुं जो करन-अर्जुन की मां बनी थी. वो तो हर फील्म मे बस रोती ही रहेती है तो चुदाइ के वक्त भी बस रोती ही रहेगी ओर बोलती रहेगी की "मैरे करन-अर्जुन आएंगे!!" फीर उसका प्रेमी तो चुदाइ रोक के चला ही जाएगा की साली तु अपने करन-अर्जुन से ही चुदवा लेना!

ि
वो तो चालीस साल की होने के बावजुद अपनी फील्मो की तरह ही 18 साल बरस की कंवारी कली, घूंघट में मुखडा छिपाने का नाटक ही करेगी वैसे नखरे करेगी, उसकी चुत के बदले बम भोसडा बन गया होगा तो भी इतनी आहे भरेगी ओर चील्लायेगी जैसे 18 साल की कुंवारी कन्या का सील तुट रहा हो! ओर उसका पति बोलेगा, बस अब ये नाटक बंध करो आंटीजी!


इनका लंड भी इन्ही की तरह सदाबहार, चुलबुला, मतवाला है. जेसी टेढ़ी-मतवाली इनकी चाल, वैसे ही सेक्स के दोरान लंड के टेढ़े ठुमके लगते है लड़की के G-spot पे डायरेक्ट मसाज होता है और वो तुरंत ही चरम सुख पा कर संतुष्ट हो जाती है. फिर चाहे वैजन्ती माला हो या जिननत अमान.

ि ि .
इनका लंड भी इन्ही की तरह हमेशा डिप्रेशन में रहेता है. देवदास बने इतना दारु पि गए की इनकी सेक्स पावर में कमी आ गयी है. इसलिए लंड न उठता है, न ढिल्ला होता है, बस अर्ध उत्तेजित अवस्था में पड़ा रहटा है, अत: यदि कोई बम-भोसड़े वाली आंटी हो तो ये दिलीप साहब पूरा दिन बिना झडे चुदाई कर सकते है, किन्तु टाईट चुत वाली लड़की मिले तो योनी-प्रवेश भी नही हो पाता और अपने नौकर को बुलाना पड़ता है के "अरे कोई है....कोई है!!"

""
ये काका मंजे हुए काकी (आंटी) और भाभी स्पेश्यालिस्ट है.
अपनी फिल्मो की तरह ही, पडोश की विधवा हो, एकाद बच्चे की माँ हो... एसी महिलाओ को पटाने व् संतुष्ट करने के मामलो में इनकी कोई बराबरी नही कर पाता. मौका मिले तो बिना शादी के भी "भूल कोई हमसे ना हो जाए" ऐसा बोलके भी लड़की को गर्भवती तो कर ही देते है.अक्षयकुमार जेसे एक ज़माने के 'प्ले-बाय' भी इनको देखते है तो सलाम मारते है.

-
युंकी हमे ज्यादा चुदाइ करवाने की आदत तो है नही, लेकीन अब आप चोद ही रहे है तो बताये देती हुं की हमे गांड मरवाना भी बहोत पसंद है.


हम अंग्रेजो के जमाने के चोदु है, आजकल के चोदुओ की तरह नही जो दो-तीन धक्को में ही शीघ्रस्खलीत हो जाते है.
हम जानते है, आजकल हमारी चुदाइ को पसंद नही कीया जाता, इसीलीए हमारी हर शादी कुछ ही दिनो में तुट जाती है. लेकीन हमारे इतने तलाको के बावजुद भी हमारा चुदाइ का स्टाइल नही बदला..हा..हा..!!

-ि
एक्टिंग तो ठीक ठाक है लेकिन टाँगे पसार देने में स्पेश्यालिस्ट है, चाहे सलमान हो, विवेक हो या अभिषेक!
वैसे अभिषेक ने शादी ये उम्मीद से की के इनकी चुत का बम-भोसड़ा बन गया होगा तो शीघ्रपतन का बिलकुल खतरा नही!!
लेकिन सुहाग रात के बाद अभिषेक पेट भर के पछताए क्योकि बम-भोसड़ा नही महा-बम-भोसड़ा था, इसलिए तो शीघ्रपतन तो ठीक, देरी से भी पतन ही नही हो पाया, जेसे ऊंट के मुंह में जीरा!


ये साइज जीरो वाली पतली अभिनेत्रीओ की भोस में डालने पर उनकी हड्डीया ही लंड से टकराएगी क्योकीं मांस तो बहोत कम है. इसलीए जमकर चुदाइ करने की कोशीश की तो लौडा ही तुट जाएगा!! मेरा मानना है की जीतना टाइम सैफ अली करीना को चोदने मे करता होगा, उसका डबल वो चुदाइ के बाद, अपने लंड पर झंडुबाम लगाने मे करता होगा!


शुरू में तो वे चुस्त दुरुस्त थे बिलकुल देव साहब की तरह, लेकिन बाद में सिगरेट की एसी तो लत पड गयी की दिन में १५-१५ पैकेट खाली कर जाते जिसके कारण इनकी भी सेक्स पावर कम हो चुकी है. और उसी बिच पीठ-कमर-गर्दन के दो चार ऑपरेशन भी करवाने पड़े.
इसलिए बोलीवुड के किंग खान तो है लेकिन अब बेडरूम में किंग खान नही है...अब पहेले की तरह जमकर-कसकर ठुमके नही लगा पाते, बस मंद गति से धीमे धीमे ही काम हो पाता है!

जितेन्द्र उर्फ हिलेन्द्र!
आपने हिमतवाला फिल्म में जो डांस का स्पेश्यल स्टेप सिखा था उसे बखूबी अपने बेडरूम में भी इस्तेमाल किया है. चुदाई के वक्त ठुमके लगाते वक्त "ता थैया-ता थैया-होओओ.." करके आप अपनी गांड और कमर ऐसे हिला-हिला के ठुमके लगाते है, की सामने वाली ओरत चरमसुख पे पहोच ही जाती है.

सफेद रंग से आपको इतना तो लगाव है की आप पेंट,शर्ट तो क्या अंडरवेयर भी सफेद ही पहनते है.
हमे याद है, आपके जमाने में कंडोम का प्रयोग कम ही होता था, और बाजार में केवल गुलाबी कलर के ही कंडोम मिलते थे, तब भी आप स्पेशल सिंगापुर से स्मगलर्स द्वारा दुगनी कीमत देकर सफेद कलर के कंडोम मंगवाकर ही श्रीदेवी-जी के साथ चुदाई करते. कभी कभी पुलिस की सख्ती के कारण यदि स्मगलर्स समय पर आपको सफेद कंडोम की डिलीवरी न दे पाते तो आप चुदाई का प्रोग्राम ही केंसल कर देते लेकिन "सफेद-कंडोम के साथ ही चुदाई" के अपने सिध्धान्त के साथ आपने कभी भी समजोता नही किया. आपकी इसी खराब आदत के कारण, श्रीदेवी ने आपको छोडकर अनिल-कपूर का हाथ थामा था.
----------

मैं ये सेक्स का गीत सुनाता चला!

अभी कल रविवार के दिन मै चोदिवुड सोसायटी का राउंड मारने निकला तो दोस्तों मेने क्या देखा???
सबसे पहेले चोद-कपूर साहब आये गाते गाते की...
मैं हुं झुमझुम झुमझुम झुमरुं
भोसड़ा चोदुं बनके घुंमरु!
मैं ये सेक्स का गीत सुनाता चला!
भोसडे पे मेरी नझर, हुं दुनिया से बेखबर,
बिती बातो पे वीर्य उडाता चला!!
भोलाभाला सीधा-साधा,
लेकिन लंड का हू शेह्जादा,
है ये मेरी सोसायटी और ये मेरा पार्किग प्लोट!

योडली...योडली योउ..योडली योडली युं!
▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄ ♪ ▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄ ♫ ▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄

सदाबहार 'ज्वेलथीफ' को जब कोई भोसड़ा न मिला तो
उन्होंने अपना दर्द कुछ इस तरह से बयाँ किया,

ये लंड ना होता बेचारा,
कदम नो होते आवारा,
जो खूबसूरत कोई भोसड़ा,
हमसफर होता होता..हो..हो...हो..
अरे माना, चुत को नही में पहेचानता,
बंदा... रंडी-खाने का पता भी नही जानता,
अरे भोसड़े की धुन में पडेगा दुःख झेलना,
सिखा हमने है मुठ मारके जीना,
कोई ना कोई भोसड़ा तो चुदेगा,
खड़े है हम भी राहों में!
▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄ ♪ ▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄ ♫ ▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄
जब सदाबहार लंड गाइड के रूप में मिल जाए तो फिर आंटी बोली ...

आज फीर चोदने का इरादा!
आज फीर गांड मरवाने का इरादा है!
कोइ ना रोको भोसडे की खुजली को!
भोसडा चुदा..आहाहा..हा हाहा!!
▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄ ♪ ▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄ ♫ ▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄

'लौडो की बारात' में आये अपने प्रेमी से मिन्नत चोदान आंटीने वचन लिया की ..

चुरा लीया तुमने जो भोसडे को,
गांड कहीं मारना ना सनम!
फाड के मेरा भोसडे
कहीं बदल ना जाना सनम!
▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄ ♪ ▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄ ♫ ▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄

जब श्रीचोदी आंटी को कुवारा लेकिन 'हिम्मतवाला' चोदेन्द्र का लंड मिला तो

ता थैया..ता थैया होओओओओ,
नैनो में सपना, सपनो में सजना,
सजना से भोसडा चुदवा लिया!
ओ सजना से भोसडा चुदवा लिया!
▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄ ♪ ▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄ ♫ ▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄
चोदुल रॉय को 'आशिकी' में अनुभवी भोसड़े को जरूरत महेसुस हुयी.

सांसो की जरुरत है जैसे, जींदगी के लीए!
हां एक अनुभवी भोसड़ा चाहीए .ए ..ए..
कुंवारा लंड चुदवाने के लीए!
टुटुन..टुटुन...टुटुन!


लेकिन जब नादाँन चोदुल रॉय ने अनु आंटी का भोसड़ा चाटने से मना किया तो आंटी ने कहा ...

जाने जीगर जानेमन!
तुजको है मेरी कसम,
तुने भोसडा ना चटवाटा,
मर जाउंगा मैं सनम!
▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄ ♪ ▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄ ♫ ▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄
चोदित रॉय ने अपनी प्यार कुछ ऐसे बयाँन किया,

लंड क्या चीज है आंटी अपना
बेंक बेलेंस तेरे नाम करता है,
ये आख्खा इण्डिया जनता है,
हम भोसड़े पे मरता है..!!

▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄ ♪ ▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄ ♫ ▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄
जब लंडक्षय कुमार का लंड एक 'मोहरा' बन गया तो उन्होंने रविना आंटी से कहा

तु भोसडा बडा है मस्त! मस्त!
तु भोसडा बडा है मस्त!
आशिक है मेरा नाम नाम,
भोसडा चोदना मेरा काम...
मदहोश हुं मै हर वक्त वक्त!
तु भोसडा बडा है मस्त! मस्त! (२)


तो रविना आंटी ने जवाब दिया उसको

नही तुजको कोइ होश होश!
तुज पर वियाग्रा का जोश जोश!
नही तेरा कोइ दोश दोश
मदमस्त है तु हर वक्त..वक्त!
तेरा लंड बडा है मस्त मस्त!
तेरा लंड बडा है मस्त!
▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄ ♪ ▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄ ♫ ▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄
जब चोदिश्मा कपूर आंटी परदेस चली तो 'चुदासे-हिन्दुस्तानी' नामिर खान ने कहा..

परदेसी परदेसी जाना नहि,
परदेसी मेरे यारा, वादा निभाना,
तुम भोसड़ा चुदवाना कंही भुल न जाना!!

और तब करिश्मा आंटी ने कहा

हाय हुकु..हाय हुकु..हाय हाय..
ये लडका मेरे सामने,
मेरा भोसडा चोद जाए जाए जाए
हाय हुकु..हाय हुकु..हाय हाय..

▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄ ♪ ▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄ ♫ ▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄
और "लंड वाले आंटी ले जायेगे" बोलके माहरुख खान ने माजोल आंटी से कहा...

रुक जा ओ आंटी दिवानी,
बुझू तो मैं जरा!
भोसड़ा है या है जादु
चाटू तो मैं जरा!
पास तू आये तो भोसड़ा चोद के में देखू जरा आ..आ..आ...
▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄ ♪ ▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄ ♫ ▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄
तभी राधे भैया बोले

भोसड़ा चोदना, भोसड़ा चाटना
बडा अच्छा लगता है!
क्या है ये, क्युं है ये, क्या खबर ? हां मगर, जो भी है!!
भोसड़ा अच्छा लगता है!!

तो आंटीजी ने जवाब दिया

ओढनी ओढ के आज चुदावाउं,
ओढनी..
हो चुदवाउं ओढनी ओढ के आज..
के भोसडा परदेसी हो गया!
हमे तुमसे हो गया प्यार
के भोसडा परदेसी हो गया!

▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄ ♪ ▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄ ♫ ▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄
बन्टी और आंटी फिल्म की केश्वर्या आंटीजी ने फरियाद की,

मेरा चेन-वेन सब उजडा!
जालिम लंड नीकाल दे,
बरबाद हो गए हैं जी
मेरे अपने शहेर वालो!

तो लडको ने जवाब दिया....

भोसडा रे..भोसडा रे,
तेरा काला काला भोसडा,
ओ तेरा भोसडा
तेरा भोसडा,
तेरे भोसडे को चोद के रहेना!
▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄ ♪ ▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄ ♫ ▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄
तभी निमेश केशमिया ने माइक हाथ पे लिया..और आंटीजी को कहा ...

तेरे भोसडे की इइ...
सुर्ख दिवारो पै...
लंड है मेरा, मेरा..
लंड है मेरा, मेरा..
लंड है मेरा, मेरा आआ..
▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄ ♪ ▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄ ♫ ▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄
'लंडफरोश' बने नामिर खान के बारे में मोनाली आंटी ने कहा...

इस दिवाने लौंडे को,
कोइ समजाए,
सेक्स चुदाइ से ना जाने क्यो ये गबराए,
दर्दे भोसडा, जाने ना!
पास मैं जीतना आउं
उतनी दुर लंड ले जाए.!!
▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄ ♪ ▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄ ♫ ▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄
तभी 'चोदर' के चोद्दी देओल पाजी ने अपने ढाई किलो का लंड दिखा के चोदिषा पटेल से कहा,

उड़ जा काले कांवा तेरे
मुंह विच वियाग्रा पाँवा,
ले जा ये संदेसा मेरा,
में सजके जांवा,

ये छोटा सा लंड हे मेरा,
रांता लम्बिया लम्बिया
भोसड़ा चुदवाजा आंटीजी,
के तेरी मेरी एक सोसायटी!
▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄ ♪ ▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄ ♫ ▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄
तो आओ मित्रों मिलकर 'शान' से गाये की,

सेक्स करने वाले!
सेक्स करते है शान से
चोदते है शान से,
गांड भी मारते है शान से,
हो चोदते है जो अनुभवी भोसडा
उनको हझारो सलाम!
ये कभी रुकते नही! रुकते पर झुकते नही
फीर चाहे जो भी अंजाम!
भोस चाटने वाले, भोस चाटते हैं शान से!
▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄ ♪ ▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄ ♫ ▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄
तो दोस्तों किसकी राह देख रहे हो? आ जाओ और यूँही फ़िल्मी गीतों के जरिये भोसड़े का गुणगान और महिमागान ऐसे ही चालु रखो इस सूत्र में!

बहन का नग्नता से परिचय-7

करेन और मैं चुपचाप देखते रहे। मैं अपने लिंग को दबाना और सहलाना चाह रहा था लेकिन साहस नहीं कर पा रहा था। करेन ने पेड़ की लटकती डाली को पकड़ लिया और आगे की ओर झुक गई। उसी पल उस आदमी की नज़रें हम दोनों पर पड़ी। पर वह रूकने की बजाय बस मुस्कुराया और अपनी पत्नी के लंबे बाल उसका चेहरा दिखाने के लिये एक तरफ हटा दिये। उसका लिंग उसके मोटे होंठों में फिसल रहा था और उसकी जीभ इसे नीचे से चाटने के लिये बाहर लपलपा रही थी।
"हे भगवान !" करेन फुसफुसाई।
अगले ही क्षण आदमी ने अपनी पत्नी के मुँह से अपना लिंग बाहर खींच लिया और फिर वीर्य की एक लंबी धार उसके चेहरे पर गिर पड़ी। एक पल के लिए वह आश्चर्यचकित दिखी और फिर उसने लिंग को अपने मुँह में दबा लिया और वीर्य के बुलबुलों को चूसने और चाटने लगी।
उसने हमारी ओर देखा, मुस्कुराया और उसने अपने होंठों पर अपनी अंगुली को रखते हुए हमें चुप रहने का इशारा किया।
"करेन, अब चलो !" मैंने करेन से कहा,"हमारे देखने से उस कोई समस्या नहीं है, लेकिन उसकी पत्नी को इस पर आपत्ति हो सकती है, उसे शर्मिंदा मत करो।"
करेन एकटक उन दोनों को घूरे जा रही थी।
मैंने उसके हाथ को पकड़ा और उसे दूर नीचे ट्रैक की तरफ वापस ले आया।
"यह तो मेरे पेपर के लिए बहुत कुछ सामग्री है… हा…. हा…. !"
"तो क्या तुम सच में नग्नतावादियों के बारे में लिख रही हो?" मैंने पूछा।
"हाँ !" उसने कहा,"और यह तो एक महान प्राणी-ग्रंथ "नग्न वानर" के नाम से हो जाएगा। पता है डेसमंड मॉरिस ने इसके बारे में नहीं लिखा था !"
"ठीक है मेरी समझदार बहन !"
"मैं तो अपने लेख को 'नग्न वानर' ही कहूंगी- अपने निवास स्थान में नग्न लोगों का एक अध्ययन !" वह हँसी।
मैंने कहा,"क्या लोगों के अंतरंग क्षणों के दौरान जासूसी को ही वैज्ञानिक अनुसंधान कहते हैं?"
"ओह प्लीज !" उसने विरोध किया।
"जासूसी खिड़कियों से झांक कर होती है ! उस जोड़े ने स्वेच्छा से सार्वजनिक रूप से मुख-मैथुन करने का फैसला किया। हम जासूसी नहीं कर रहे थे !"
मैंने पूछा,"ओह, तो क्या हम छुपे दर्शक नहीं थे?"
वह हँसी,"कदापि नहीं ! केवल दिलचस्प प्रेक्षक !"
"ज्यादा बनो मत ! हम सभी जानते हैं कि मुखमैथुन क्या है, हम सबने फिल्मों में देखा है। यह सिर्फ एकांत में की गई एक क्रिया मात्र थी। और मुझे पता है कि तुम्हें भी इसे देख कर मज़ा आया होगा !" उसने मेरे तौलिये के अन्दर मेरे खड़े लिंग की ओर इशारा करते हुए कहा।
मेरा लिंग अभी भी खड़ा था।
"ठीक है !" मैं हंसा,"तो अब आप इसके बाद क्या करना चाहती हैं?"
"ठीक है ! मुझे लगता है कि पूल में एक डुबकी अच्छा होगा।"उसने कहा,"दोपहर के भोजन के बाद ! और हमें यह फैसला भी करना है कि क्या हम आज रात वैल और रॉड के साथ जा रहे हैं?"
"क्या ?"
"ओह, मैं तुम्हें बताना भूल गई !" करेन ने कहा और ट्रैक की एक तरफ से एक डंडी लेने झुकी,"उन्होंने हमें अपने कैबिन के पास आज रात एक बारबेक्यू पार्टी पर आमंत्रित किया है !"
"हुं…! नग्न पार्टी ही होगी, इसमें कोई शक नहीं !"
"ह्म्म ! अगर हम लोग वहाँ जाते हैं तो मुझे अपनी नोटबुक साथ में ले जाना याद रखना पड़ेगा ! क्या पता मुझे वहाँ क्या-क्या देखने को मिल जाए !"
"हा… हा…. चलो ! जैसा तुम ठीक समझो !" मैंने कहा।
फिर हम नीचे ट्रैक पर जाने के लिए चल पड़े। करेन ने रास्ते में उस डण्डी से मेरे तौलिये में बने उभार पर हल्के से मारा।
मुझे उसकी यह हरकत और मज़ाक बहुत अच्छा लगा।
हम कैबिन में पहुंचे, हमने जूते उतारे और कुछ किताबें और ठंडा पेय लेने के बाद हम पूल पर जा पहुँचे।
मैं करेन के बारे में सोच रहा था कि क्या यह वही औरत है जो कल नग्नता से बचने के लिए परेशान सी हालत में पूछ रही थी कि क्या वह कमरे में छुपी रह सकती है।
चलते समय करेन मुस्कुरा रही थी और जो भी हमारी बगल से निकल रहा था, उसे हाथ लहरा कर अभिवादन किया।
जब हम पूल-क्षेत्र में आ गये तो उसने दो या तीन लोगों से बात करने के लिये रूकने का एक बहाना बना दिया।
मैं आगे चला गया और पूल के पास एक मेज पर अपने तौलिए रख दिये।
वैल और रॉड वहीं पूल में पानी से खेल रहे थे और जब करेन हमारे साथ शामिल हुई तो पीछे से डेव एक युवा गोरे आदमी के साथ आ गई।
"हाय…. तुम दोनों ?" उसने कहा।
"यह मेरे पति ट्रेव ! और ट्रेव ये करेन और टिम हैं !"
ट्रेव वैसा नहीं था जैसी मुझे उम्मीद थी।
ट्रेव भी अपनी पत्नी की तुलना में लगभग पाँच साल छोटा लग रहा था जैसे उसने व्यायामशाला में सबसे ज्यादा जीवन बिताया हो। मैं सामान्य रूप से इर्ष्या रखने वालों में से नहीं रहा हूँ, लेकिन मैंने भी ट्रेव की तरह दिखने के लिए उतना ही दैनिक व्यायाम मैंने किया है जितना उसने किया होगा। पर मैं ट्रेव की तरह छः-पैक विकसित करने में सफ़ल नहीं हुआ। ट्रेव के पेट के नीचे एक छोटा लेकिन मोटा खतना किया लिंग लटका हुआ था।
करेन ने उससे हाथ मिलाया। वह उसे एक प्रशंसा भरी किन्तु सरसरी निगाह से देख रही थी। डेव बनावटी ढंग से मुस्कुराई और मुझे एक गाल पर चुम्बन देने के लिए झुकी।
ट्रेव ने करेन की कमर को चारों ओर अपने हाथ फैला कर हमसे बातें की।
मैंने उस युगल को देखा- ट्रेव एकदम चुस्त और लंबा था जबकि डेव मोटी और ठिगनी थी।
यह जोड़ी मुझे असंतुलित लगी लेकिन वे नग्नतावादी थे, एक दूसरे को प्यार करते थे और खुश थे। मैं या कोई और उनके बारे में निर्णय करने के लिए कोई नहीं थे। वहाँ निश्चित रूप से डेव के साथ 'गलत' कुछ नहीं था। उसकी कमर पतली पर जांघों के आसपास थोड़ी मोटी थी लेकिन वह यह अच्छी लगती थी। उसकी चमकदार नीली जिंदादिल आंखें, एक हंसमुख चेहरा और गोरे घने बाल। उसके स्तन बड़े और मोटे थे और उसके छोटे से पेट के नीचे योनि के ऊपर एक पट्टी के आकार में बहुत घुंघराले चमकदार झांट के बाल थे। योनि बिल्कुल चिकनी और बड़े आकार की थी।
ट्रेव पूछ रहा था,"तो तुम दोनो शादीशुदा हो?"
"हाँ !" मैंने कहा,"लेकिन एक दूसरे से नहीं !"
"ओह यहाँ शिविर में एक घोटाला ?" वह मुस्कुराया।
"ये भाई और बहन हैं मूर्ख ।" डेव ने कहा।
वो हँसा और बोला,"क्षमा करें !"
डेव ने हमसे कहा,"मेरा पति मूर्ख है ! पता नहीं क्यों मैं अभी भी इसे अपने साथ रखती हूँ !"
और फिर वहीं पर खुले में डेव ने वहाँ आसानी से अपनी दोनों अंगुलियों से ट्रेव के लिंग को मरोड़ दिया। उसके लिंग ने एक झटका सा खाया।
"यही इसका उपयोग है !" कहते हुए उसने हमारी और आँख मारी।
ट्रेव और डेव एक जगह पर आराम के लिए लेट गए। यहाँ अत्यंत गर्मी थी और हम पूल क्षेत्र के किनारे के आसपास शामियाने की छाया से खुश थे। हमने इधर उधर की बातें की और दोपहर के भोजन पर बजाय कैबिन वापस जाने के हमने जनरल स्टोर से कुछ नाश्ता खरीदा और पूल के पास ही खा लिया।
अपने आप को ताज़ा दम करने के लिए मैं पानी के अंदर तैराकी की। वैल और रॉड भी मेरे सामने थे।
"रॉड ने कहा,"हमें एक वाटर पोलो टीम बनाने के लिए कुछ और लोगों की जरूरत है। क्या करेन खेलना चाहेगी ?"
मैंने करेन को पास बुलाया और वह पूल के पास आई। और जैसे ही वो हिंदेशियन वस्त्र को खोलने को हुई, उसने झिझकते हुए से चारों ओर देखा, अपने कंधे उचकाए और गाँठ खोलकर हिंदेशियन वस्त्र मेज पर फेंक दिया। कल की बड़ी बिकिनी के स्थान पर आज वह सफेद लेस वाली एक बहुत छोटी पैंटी पहने थी जिसमें से उसकी घनी काली झांटो की रूपरेखा को देखा जा सकता था। हालांकि पूल में वह अकेली नग्न नहीं थी, पर उस समय उसकी एक सेक्सी झलक देखने के लिये बहुत से सर ऊपर उठ गए थे।
वह झट से पूल में कूद गई और साथ ही डेव और ट्रेव भी अन्दर कूद गए। जल्द ही हमने खेलने के लिये हमने एक ग्रुप बना लिया और कुछ वाटर पोलो जैसा खेल खेलने के लिए तात्कालिक नियम बना लिये। एक पक्ष में चार लोग थे और पूल के एक छोर तक से दूसरे छोर तक एक बड़ी गेंद किसी भी तरह से ले जानी थी। किसी भी प्रकार से गेंद फ़ेंकने या छीनने की अनुमति थी लेकिन कोई भी विरोध टीम के सदस्य को घेरकर अगर गेंद छीनना चाहे तो उसे वह मजबूती से नहीं पकड़ सकता था। इस मामले में उनके ऊपरी शरीर के आसपास अपनी बाहों को लपेटकर निपटना था। यदि आपने यह किया और व्यक्ति ने समय में गेंद को अपने साथी को नहीं दिया तो गेंद सामने वाली टीम को दे दी जायेगी।
मैंने देखा कि वैल और डेव या तो बहुत धीमी गति से तैर रही थी या फिर ऐसा प्रतीत हो रहा था कि वे हर अवसर पर जानबूझ कर घिरने की कोशिश कर रही थी। कार्ल अपने खेल में चुस्त था और जब भी गेंद डेव या करेन के पास होती तो कार्ल तुरन्त वहाँ पहुंच जाता था।
यह सब कुछ मजेदार था, लेकिन मुझे लगा यह खेल हम जैसे नये व्यक्तियों से छेड़छाड़ करने का एक बहाना था, पानी के अंदर खेल के बहाने कुछ हरकतें की जा सकती थी।
खेल में एक बार मैं करेन से गेंद लेने के लिए तैर रहा था तब कार्ल ने उसे पीछे से पकड़ लिया। जब करेन ने उछल कर मेरी ओर गेंद फेंक दी तब भी वह उसे कुछ और सेकंड के लिए पकड़े रहा और अपने दोनों हाथों से उसके स्तनों, चुचूकों को मसलता रहा। करेन ने नीचे पानी में डुबकी लगा दी।
जब खेल बीच में रुका तो मैं करेन के पास तैर कर गया और फुसफुसाया,"सुनो ! क्या तुम चाहती हो कार्ल के व्यव्हार के बारे में मुझे उससे बोलना चाहिये?"
"क्यों ?" उसने असमंजस के साथ मेरी ओर देखा।
"ठीक है ! लेकिन मैंने देखा था कि वो तुम्हें खुल्लम-खुल्ला छेड़ रहा था। तुम कहो तो मैं उसे ऐसी हरकत के लिए समझा दूँगा !" मैंने कहा।
"ओह … मेरे सम्मान की रक्षा कर रहा है मेरा भाई ?" वह मुस्कुराई,"इसके बारे में मत सोचो ! यह सिर्फ एक खेल है !"
"हाँ, लेकिन….!"
"शान्त रहो !" उसने मेरे बाल सहलाते हुये कहा,"वह शायद बेबस है ! शायद उसे ऐसे मौके मिलते नहीं होंगे… कोई बात नहीं ! मुझे कोई परेशानी नहीं है !"
और हम फिर से खेलने लगे। हम कोई आधे घंटे तक और खेलते रहे। मैं करेन से ज्यादा बात नहीं कर सकता था लेकिन मैं जानता था कि वैल जानबूझ कर अच्छे मौके तलाश कर सबकी नजर बचा कर मेरे लिंग को पकड़ने का कोई अवसज नहीं चूक रही थी। जब भी मौका मिला, दो या तीन बार, जब मेरे पास गेंद नहीं थी तब भी उसने खींचा-तानी के बहाने मेरे लिंग को मसल ही दिया।
हम सभी ने जीत की खुशी में पूल से बाहर निकल कर शराब के घूंट मारी। खेल के बाद हम सभी थोडे से बेदम दिख रहे थे।
जब करेन पूल से बाहर आई तो मैंने देखा कि उसकी पैंटी पूरी तरह से गीली और लगभग पारदर्शी थी। पीछे से उसके नग्न और सुंदर बड़े कूल्हे स्पष्ट दिख रहे थे और सामने से काले घने बाल पैंटी से चमक रहे थे। उसे एहसास नहीं था कि उसका बद्न इस तरह दिख रहा है। एक बार मैंने उसे इसके बारे में बताने का सोचा। इससे उसे मेरे सामने शर्मिंदा होना पड़ता, मैंने ऐसा नहीं करने का फैसला किया।
हम सबने एक एक पैग लिया और करेन ने रात की पार्टी के बारे में वैल से पूछा- हमें उसमें क्या लाना होगा?"
"ओह, बस अपने आपको और इस पेट को ?" वैल ने कहा।
"हमारे पास खाने का काफ़ी सामान है। मांस भी है जो रखे-रखे बासी हो सकता है !" करेन ने कहा,"मैं उसमें से कुछ ले आऊँ ?"
"नहीं !" वैल ने कहा,"बस टिम को साथ ले आना ! उसका एक मांस का टुकड़ा है जो यहाँ बेकार जा रहा है !"
"क्या?"
मैंने अचकचा कर वैल की ओर देखा, वैल और करेन खिलखिला कर हँसी,"तुमने क्या कहा?"
"क्षमा करना टिम !" वैल कहा,"मैं तो बस मजाक कर रही थी। मेरा मतलब है कि आपकी पत्नी यहाँ नहीं है ! तो ! बस इतना ही !"
बाद में जब सूर्य अस्त हुआ हमने विदा ली क्योंकि कैबिन में वापिस जाकर शाम की पार्टी के लिए तैयारी करनी थी। रास्ते में करेन और मैं फिर से स्नान के लिए रूके, कंधे से कंधा मिला कर नहाए और फिर हाथ में हाथ लिए हमारे तौलिए झूलाते और बातें करते कैबिन की ओर चल दिये।
"वैल ने सही कहा था !" करेन ने पूछा," क्या यह सच है कि तुम यहाँ अकेलापन महसूस कर रहे हो? तो तुम अपनी पत्नी को याद कर रहे हो ?"
"अरे कोई बात नहीं, बहन !" मैंने उत्तर दिया।
"मैं वास्तव में तुम्हारे साथ यहाँ आनंद अनुभव कर रहा हूँ ! शायद अगली बार हम सब एक साथ यहाँ आ सकते हैं?"
"हो सकता है !"
"मुझे खुशी है कि तुम इन सबके साथ आराम से हो !"
" हाँ ! मुझे यहाँ अच्छा लग रहा है ! मैं तुम्हें अपने शोध के हिसाब से इतना ही बता सकती हूँ कि नग्न होकर नए दोस्त बनाना बहुत आसान है ! और मेरे लिए यह इस जीवन शैली का लगभग सबसे आकर्षक पहलू है।"
"लगभग ?" मैंने पूछा,"तो सबसे आकर्षक क्या है?"
"जाहिर है ! इतने ज्यादा नग्न लिंग एक साथ देखना !" वह हँसी।
कैबिन में आकर करेन ने कहा कि वह थोड़ी देर सोने के बाद पार्टी के लिए तैयार होगी। वह अपने बेडरूम में चली गई और एक पल बाद ही दरवाजे में से उसका सिर दिखा।
"टिम?"
"हाँ?"
"मैं हर रोज़ कपड़े नहीं धोना चाहती?" कहते हुए उसने मुझ पर टिशू पेपर का एक पैकेट फेंक दिया,"अगली बार जब हस्तमैथुन करो तो इसका उपयोग कर लेना !" कहते हुए उसने मुझ पर आँख मारी और दरवाजा बंद कर दिया।
कहानी अभी जारी रहेगी !
punia420@rediffmail.com

बहन का नग्नता से परिचय-6

नग्नता एक अलग बात थी, लेकिन क्या मेरी बहन ने मुझे हस्तमैथुन करते देख लिया है? मैं सोचने लगा कि सुबह को मैं अपनी बहन करेन का सामना कैसे करूंगा अगर उसने मुझे हस्तमैथुन करते देखा होगा तो !
गर्म धूप और खिड़की से आती हुई चिड़ियों के चहचहाने की आवाज हमेशा ही उल्लासित करने वाली होती है। आज मंगलवार था और मैं बाहर पोर्च के चारों ओर करेन की चलकदमी की थोड़ी आवाज सुन सकता था। इससे पहले कि 9:00 बजे नाश्ता लगे, मैंने पिछले दिन अधिक मात्रा में जो बीयर पी थी उसका अफसोस जताया और आज एक स्वस्थ दिन बनाने का संकल्प किया।
तभी मुझे याद आया कि कल रात हस्तमैथुन के बाद मैंने तौलिये से पौंचा था तो उस पर वीर्य के दाग लगे होंगे, करेन उसे ना देख ले तो मैंने उसे धुलने के लिये बाथरूम में फेंकने की सोची लेकिन वह तौलिया वहाँ नहीं था, अलबत्ता एक नया साफ़ सुथरा तौलिया सोफे पर रखा था।
ओह … शायद गलती से करेन ने मुझे कल रात हस्तमैथुन करते देख लिया था और जब मैं सो रहा था उस समय उसने मेरा गन्दा तौलिया हटा दिया होगा।
अब मुझे यह सब जानते हुए उसका सामना करना था।
मैं अपने चहरे को सामान्य बनाए कंधे पर नया तौलिया लटकाए पोर्च से बाहर निकला। तौलिया मेरे लिंग को ढके हुए था।
" गुड-मॉर्निंग मेरे देर तक सोने वाले भाई !"
करेन वहाँ पहले से थी। टोस्ट, फल और चाय के साथ बाहर रखी छोटी मेज पर बैठी थी। मेरे अनुमान विपरीत वह मुझे ताजा और प्रसन्न दिखी और पूरी तरह से मुझ पर मुस्कुरा रही थी। उस दिन फिर से उसने वही हिंदेशियन वस्त्र पहना था लेकिन आज वह सिर्फ उसकी कमर के चारों ओर बंधा था, उसके शानदार बड़े स्तन मुक्त और नंगे थे।
"मॉर्निंग !" मैंने कुर्सी पर बैठने के लिए झुकते हुए कहा," एक साथ यह सब एकत्र करने के लिए शुक्रिया, मुझे माफ करना ! दरअसल एक अच्छे मेजबान के रूप में यह सब मुझे करना चाहिए था !"
"मुझे कोई परेशानी नहीं है यह सब करने में !" वह मुस्कुराई। फिर वह मुझे चाय का कप मुझे देने के लिये आगे झुकी। ऐसा करने से उसके झूलते स्तन और थोड़ा नीचे लटक गये।
वह मुस्कुराते हुए बोली,"मुझे ऐसा लग रहा है जैसे तुम देर रात तक जागे हो और तुम्हें एक लंबी नींद की जरूरत थी !"
मैंने चाय की चुस्की ली और कृतज्ञता से उसकी ओर देखा। मेरे लिए यह सुखद अहसास था । मुझे लगा जीवन लौट रहा है।
"ओह, मैंने अपने कपड़ों के साथ तुम्हारा तौलिया भी धो दिया है और बाहर सूखने के लिए डाल दिया है !" करेन ने हँसते हुए कहा।
"धन्यवाद !" मैं इसके सिवा और क्या कह सकता था। मैंने उसकी आँखों में देखना चाहा कि वह मेरे बारे में वो क्या सोच रही है । लेकिन उसकी आँखों में तो बस एक हल्की मुस्कराहट ही थी।
"करेन, आज तुम बहुत अच्छे मूड में लग रही हो?" मैंने साहस किया।
"हाँ … यह तो है ! ऐसी सुंदर और आरामदायक जगह पर मुझे लाने के लिए एक बार फिर से तुम्हारा धन्यवाद !"
"तुम आराम से हो?" मैंने पूछा,"मुझे खुशी है कि तुम नग्नता के साथ सामान्य हो रही हो। मैं थोड़ा चिंतित था कि तुम शायद दिन की रोशनी में डर या शर्म के मारे बाहर ना जाओ।"
"पर मुझे लगता है कि अभी तक सामान्य नहीं हूँ !" वह हँसी,"लेकिन कम से कम निरावृत वक्ष तो मैं बाहर जा ही सकती हूँ। यह स्थान वास्तव में अच्छा है।" उसने अपने कंधे उचकाते हुए अपने झूलते स्तनों को सहारा देकर थोड़ा सा ऊपर उठा दिया।
मैंने पिछली रात इन्हें अच्छी तरह से देखा था, लेकिन सुबह की रोशनी में अब वे और भी बेहतर लग रहे थे। हालांकि वहाँ पर धूप के कारण पड़ने वाले कोई निशान नहीं थे, उसकी त्वचा स्वाभाविक रंग-रूप की थी और उसके चुचूक लगभग भूरे और हल्के सुंदर काले रंग के थे। रात में नहाते समय मैंने देखा था कि उसके चुचूक शॉवर और रात की ठंडी हवा से सिकुड़े हुए थे लेकिन अब वे मुलायम और किसी टीले के शिखर की तरह लग रहे थे।
"क्या तुम इनके अभी तक अभ्यस्त नहीं हुए हो?" करेन ने पूछा।
अब मुझे एहसास हुआ कि मैं करेन के वक्ष को घूर रहा था।
"ओह, माफ करना !" मैंने टोस्ट और जैम के लिए हाथ बढ़ाया,"मैं जानता हूँ, वैसे मेरे लिए यह कुछ नया है।"
"मुझे पता है कि तुम क्या कहना चाहते हो !" कहते हुए उसने अपने चुचूकों को अपनी हथेलियों से ढक लिया।
"कल जैसे तुमने पहली बार मुझे नग्न देखकर अनुभव किया। स्वाभाविक रूप से मैंने भी तुम्हारी नग्नता को बस थोड़ी देर के लिए ही देखा, ठीक उसी तरह जैसे मुझे लगता है कि अगर मैंने तुम्हें एक नया सूट और टाई के साथ देखा होता।"
"वाह... एक अच्छी तुलना है !" मैंने कहा,"और कुछ देर के बाद तो आप भी इसकी आदि हो गई थी?"
"तुम्हारा मतलब है यह मुझ पर निर्भर करेगा?"
अचानक उसे ख़याल आया कि उसने यह क्या कह दिया है तो अनायास ही हम दोनों की हंसी फूट पड़ी। बचपन से ही हमने हास्य की इसी भावना को बांटा था और अक्सर अनायास हँसी के दौरे एक दूसरे के साथ शुरू हो जाते थे। इस अवसर पर उसके स्तनों का कामुक उछाल के रूप में वह वापस झुकना और उसका ठहाके मार कर हंसते हुए देखने का आकर्षण मैं कभी नहीं छोड़ पाता था। मुझे उसकी ऐसी हंसी बहुत अच्छी लग रही थी।
नाश्ता बहुत स्वादिष्ट था।
करेन ने रात में मुझे हस्तमैथुन करते देखा या नहीं, इसका कोई उल्लेख नहीं किया। आज का दिन बहुत अच्छा होने जा रहा था। नाश्ते के बाद मैं बर्तन साफ़ करने लगा और करेन एक पुस्तक के साथ बरामदे में जाकर तनाव मुक्त हो गई।
बर्तन साफ़ करने के बाद मैंने दाढ़ी बनाई और फिर हल्का शावर लिया। जब मैं वापस आया करेन पोर्च की रेलिंग झुकी हुई वैल और रॉड से बात कर रही थी जो पूल के लिए अपने रास्ते पर जाते हुए "शुभ प्रभात" कहने के लिये रूके थे। दोनों नग्न थे और अपने हाथों में शीतल पेय की बोतल पकड़े थे और कंधे पर पत्रिकाओं से भरा बैग लटका रखा था।
वैल ने धूप से बचने के लिये एक बड़ी सफेद टोपी पहनी थी और आज उसने अपने चुचूकों पर चांदी के छोटे छल्ले पहने थे, उनके कारण उसके छोटे गुस्ताख स्तन चमकते हुये दिखाई दे रहे थे। रॉड अपने लिंग पर एक छल्ला पहने हुए था। मैंने देखा कि उसकी चिकनी शेव की हुई गेंदे और लिंग चमड़े के एक कसे और तेलीय आवरण से ढके थे। हालांकि जैसा मैं चाहता था वो वैसे नहीं थे जो मेरी बहन को पसंद आते। मैं चाहता था कि मेरी बहन इस जोड़ी को अलग रूप में देखे और इसके बारे में सोचे। लिंग पर छल्ले और आभूषण रिसॉर्ट में आम नहीं थे और ज्यादातर लोग इस तरह के शृंगार आभूषण से दूर रहते थे। उनके असामान्य पोशाक के अतिरिक्त उनके व्यवहार में सेक्स जैसा कुछ भी नहीं था।
हम मौसम के अनुसार दिनभर के लिए योजना बनाने लगे। ज्यादातर मेहमान अपनी योजनाओं को पूल आसपास द्वारा लेटे रहने और यथासंभव कम से कम काम तक ही रखते हैं।
करेन जब रेलिंग पर टिकी हुई थी उसके स्तन नीचे लटके थे। हालांकि उसने धूप का चश्मा पहन रखा था। पर मुझे यकीन था कि रॉड इस दृश्य का आनंद ले रहा था और एक या दो बार मेरी बहन को एक पत्रिका में कुछ तस्वीरें दिखाते हुए उसको और आगे झुकने के लिए मजबूर भी किया। मैं जानता था कि वह क्या कर रहा है और मैं सोच रहा था कि करेन को बताना चाहिए, लेकिन बाद में मैंने सोचा कि वह काफी समझदार है उस पता है कि वह क्या कर रही है।
वह इस आवरण-विहीन अवस्था में बहुत स्वाभाविक और आराम से लग रही थी। मैं ऐसा कुछ करना नहीं चाहता था कि वह इस अनूठे अनुभव को बंद कर दे।
वैल और रॉड जब पूल की ओर टहलते हुये चले गए तब करेन ने मेरी तरफ मुड़ कर कहा,"तो, आगे क्या? वॉलीबॉल?"
"ओह, मुझे नहीं पता ! हम छुट्टी पर हैं और हम वही करेंगे जो तुम चाहती हो !"
"वैल और रॉड ने सुझाव दिया है कि वहाँ नदी के पास घूमने की अच्छी जगह है।" करेन ने कहा।
फिर उसने सीधे खडे होकर बड़े करीने से हिंदेशियन वस्त्र बांधा।
"ज़रूर !"
यहाँ से लगभग चार सौ गज की दूरी पर नदी के रेतीले तटों और चट्टानी धारा के दृश्य दिखाई देते हैं। जब भी मैं और मेरी पत्नी यहाँ आये थे हम यहाँ पर सैर करने से नहीं चूके थे। आज मैं मेरी बड़ी बहन के साथ यह अनुभव बाँटने में अधिक खुश था।
हम अपने पैदल चलने के जूते पहने, पानी की एक बोतल और तौलिये लिये और चल पडे। रास्ते में हम कई केबिनों के पास से होते निकले जहाँ लोग अपना दिन बाहर बिताने के लिए तैयार हो रहे थे। हमें देख कर सभी ने हाथ हिलाया और एक दोस्ताना सुप्रभात कहा। मेरे यहाँ आने के लिए एक और कारण यहाँ के लोगों का प्यार भी है।
एक बार जब हम नदी के किनारे कैम्प से आगे निकले तो जंगली कंगारूओं को घास खाते और रंगीन किंगफिशर पानी पर मंडराते देख करेन खुश हो गई। वह हमेशा वन्य जीवन को देखना पसंद करती है और जब मैंने उसे बताया कि नदी में बत्तख जैसे पक्षी भी हैं तो उसने कसम खाई कि वह उन्हें देख कर ही घर जाएगी।
छायादार पेड़ों के बीच से गुजरती नदी का दृश्य बहुत खूबसूरत था। हमने बीच बीच में रूक कर जल प्रवाह को देखा। आधा मील जाने पर मैं एकदम रूक गया और करेन का हाथ पकड़ लिया।
"मुझे लगता है कि अब वापस चलने का समय हो गया है।" मैंने उससे कहा।
"क्यों?" करेन पेड़ों की ऊंचाई की तरफ टकटकी लगाकर देख रही थी और अब तक उसने वह दृश्य नहीं देखा था जो मैंने देखा था।
हमसे पंद्रह गज दूर उस दिन वाला गंजा आदमी पानी में एक छोटी सी चट्टान पर बैठा था और उसकी एशियाई पत्नी उस पर झुकी थी। इस दूरी से भी मैं देख सकता था कि वे चुंबन ले रहे थे और महिला का हाथ धीरे धीरे खड़े हुये लिंग पर चल रहा था।
"हम वापस क्यों जाना चाहिए?" करेन बोली,"थोड़ी देर रुको ना प्लीज !"
अचानक करेन की आवाज एकदम धीमी हो गई और वह मुझसे फुसफुसाई," हे भगवान् …. देखो वे क्या कर रहे हैं?"
"ओह ... चलो पीछे मुड़ें ! उन्हें इस एकान्त में आनंद लेने दो !"
"पगला कहीं का…" वह हँसी"अगर उन दोनों को एकान्त ही चाहिए था तो वे इसे अपने कैबिन में भी कर सकते थे। और जब उन्होंने यहाँ बाहर यह सब करने का फैसला किया है और उन्हें कोई देख रहा है तो वो इसके बारे में शिकायत नहीं कर सकते हैं।"
"शायद वे सोच रहे हैं कि वे अकेले हैं !" मैंने कहा।
"बकवास ! यह एक सार्वजनिक स्थान है ! वे जानते हैं कि उन्हें दूसरे लोग देख सकते हैं।" करेन ने मेरा हाथ पकड़ते हुए मुझे चुप रहने का इशारा किया।
मैं फिर उस जोड़े को टकटकी लगाकर देखने लगा।
अब हम महिला के सिर को ऊपर और नीचे हिलते देख कर यह अन्दाजा लगा सकते थे कि वह अपने पति के लिंग को चूस रही है। उसने अपने हाथों से अपने पति के लिंग को नीचे से मजबूती से पकड़ रखा था। उसका पति आगे झुका था और एक हाथ से उसके सिर को पकड़े हुए था और दूसरे से वह उसके स्तन और चुचूक धीरे-धीरे मसल रहा था।
करेन एक पेड़ की डाली को पकड़े, थोड़ा सा आगे झुकी बड़े कौतुक से उन्हें देख रही थी। मैं खुद बहुत उत्तेजित महसूस कर रहा था। मैंने तौलिये से अपने खड़े लिंग को ढक लिया ताकि करेन उसे ना देख पाए।
अब महिला और अधिक झुक गई तो हमें उसकी छोटी सी चमकती हुई गुदा का छल्ला और दरार दिखाई देने लगी। उसके पति का बायां हाथ उसकी जांघों को सहला रहा था उसी ताल से जैसे कि वो लिंग को ऊपर और नीचे चूस रही थी।
करेन और मैं चुपचाप देखते रहे। मैं अपने लिंग को दबाना और सहलाना चाह रहा था लेकिन साहस नहीं कर पा रहा था। करेन ने पेड़ की लटकती डाली को पकड़ लिया और आगे की ओर झुक गई। उसी पल उस आदमी की नज़रें हम दोनों पर पड़ी। पर वह रूकने की बजाय बस मुस्कुराया और अपनी पत्नी के लंबे बाल उसका चेहरा दिखाने के लिये एक तरफ हटा दिये। उसका लिंग उसके मोटे होंठों में फिसल रहा था और उसकी जीभ इसे नीचे से चाटने के लिये बाहर लपलपा रही थी।
"हे भगवान !" करेन फुसफुसाई।
क्रमशः
punia420@rediffmail.com

बहन का नग्नता से परिचय-5

बहुत से लोग शाम को स्पा में बैठते हैं और एक शोर सा होता रहता है।" मैंने कहा।
"हम भी चलें?" करेन ने पूछा।
"ज़रूर, क्यों नहीं !"
रेलिंग से उसने बिकिनी को उठाया और कहा,"अभी भी चिपचिपा और गीली है, मैं यह नहीं पहन सकती !"
"तो मत पहनो !" मैं मुस्कुराया।
उसने एक पल के लिए सोचा,"नहीं टिम, मैं तैयार नहीं हूँ !" उसने कहा, और वह केबिन में पहनने के लिए कुछ और खोजने चली गई।
हम अपने पूल क्षेत्र के रास्ते पर चल दिये और सबसे बड़ा स्पा के पास गये। वहाँ दो जोड़े पहले से ही थे, उन्होंने हमें अंदर आने के लिए कहा। अंदर एक लगभग साठ साल की जोड़ी जो धूप से सिके हुए लग रहे थे, अन्य एक जोड़ा जो अपने जीवन के तीसवें दशक में होगा और कार्ल एक ब्लॉण्ड गोरी औरत के कंधे पर अपनी बाहें रखे था।
बड़ी आयु के जोड़े ने थोड़ा सरक कर हमें जगह दी और मैं आराम से गर्म पानी में बैठ गया। करेन ने अपना हिंदेशियन वस्त्र गिरा दिया, उसके नीचे वह एक सफेद बिकिनी पहने थी, यह बिकिनी मुझे 1950 के दशक से की सी लगी- कमर से कंधे तक एक बड़ी सी बिकिनी जो आकर्षक नहीं थी।
यह असंभव है कि एक स्पा में लोग पास-पास बैठ कर बातें न करें, हमने अगला आधा घण्टा अपने पड़ोसियों से परिचित होने में बिताया। वृद्ध युगल ग्रे-नोमडस का था, वे हाल ही में सेवानिवृत्त हुए थे और घूमते-फ़िरने में आनन्द महसूस कर रहे थे। उनकी बातें, किस्से बहुत मनोरंजक थे, डेबी, छोटे कद की गोल-मोल सी महिला, मेरी तरह सिडनी से थी, ने उपेक्षा के साथ बताया कि उसने ट्रेव नाम के एक लड़के से शादी की जो इस समय मनोरंजन हॉल में अपने दोस्तों के साथ पूल खेल रहा है।
कार्ल, जिससे हम पहले ही मिल चुके थे हमेशा की तरह किसी भी विषय पर बात करने में माहिर था। यह लग रहा था वह डेबी और ट्रेव सभी पुराने दोस्त थे।
किसी बात पर वैल ने करेन से कहा,"यहाँ पहली बार आई हो?"
"हाँ," करेन ने कहा,"अभी अपने छोटे भाई के साथ ! पर यह एक सुंदर जगह है.."
"ठीक है," वैल ने नम्रता से कहा,"तुम सिर्फ यह देखो कि यह जगह तुम्हारे लिए आरामदायक है या नहीं ! नग्नता के बारे में सोचने की जरूरत नहीं और न ही किसी के दबाव में आने की ! तुम वो करो जो तुम्हारा मन चाहे.."
"धन्यवाद," करेन मुस्कुराई,"मैं जानती हूँ कि इस स्थान पर कपड़े पहनना या ना पहनना अपनी इच्छा पर निर्भर करता है, लेकिन क्या जो लोग पूर्ण नग्नतावाद में विश्वास करते हैं वे यह महसूस नहीं करते कि वस्त्रधारी उनके साथ धोखा कर रहे हैं?"
"कुछ हो सकते हैं !" रॉड ने कहा, कार्ल की तरफ ध्यान से देखते हुये,"लेकिन मुझे उनके बारे में चिंता नहीं ! लेकिन इसके बारे में एक कट्टर विचारधारा क्यों हो?"
"हाँ," वैल कहा,"और अगर यहाँ तापमान तेजी से गिरता है तो वे लोग क्या करेंगे? नग्नतावादी होने के नाते इसका मतलब यह नहीं है वे आपको नग्न होने पर मजबूर करें ! यह आपकी इच्छा पर ही निर्भर होना चाहिए।"
करेन ने सहमति में सिर हिलाया।
जब वे नग्नता के बारे में बातें कर कर रहे थे तब मैंने पीछे झुक कर चारों ओर देखा। सभी स्पा भरे थे और मैंने अपने साथ वाले स्पा में ऑस्ट्रेलियाई-एशियाई युगल देखा, वे आपस में प्यार भरी यौनपूर्व क्रीड़ा कर रहे थे और तारों पर टकटकी लगा कर देख रहे थे।
कार्ल बाहर कूदकर एक बीयर लेने चला गया और उसी समय करेन डेबी की तरफ़ मुड़ी और कहा," यह लीजिए ! मैं भी नग्न हो रही हूँ ! सोच लिया मैंने ! अभी या फ़िर कभी नहीं !"
उसका एक हाथ बिकिनी के एक सिरे पर पहुँच गया और उसने पट्टियाँ खोल दी। उसने मुझ पर घबराई हुई सी नजर डाली लेकिन मैंने ऐसा प्रदर्शित किया कि मैं दूर देख रहा हूँ।
करेन ने बिकनी के ऊपरी हिस्से को एक पास की बेंच पर उतार कर रख दिया और एक ही पल में वह स्पा में कुछ ज्यादा झुक कर बैठ गई।
"ठीक किया करेन !" वैल ने कहा, "बहुत बहादुरी वाला काम किया है ! ठीक महसूस कर रही हो ना?"
करेन ने अपने हाथों से अपने वक्ष पर ढके हुए थे लेकिन वह यह दिखाने की कोशिश कर रही थी कि उसने अपने हाथ पानी के ऊपर फैला कर रखे हुए हैं।
"तुम्हें पता है !" उसने कहा,"मुझे यकीन नहीं हो रहा कि मैं नग्न हूँ ! लेकिन शारीरिक रूप से मैं बहुत अधिक आराम महसूस कर रही हूँ, मेरे स्तन लोग देख रहे हैं, यह सोच कर मुझे रोमांच का अनुभव हो रहा है।"
"करेन के स्तनों को देखो!" डेबी हँसी।
लेकिन करेन पानी के अन्दर झुक कर बैठी थी और पानी में उठ रहे बुलबुलों के कारण उसके वक्ष दिख ही नहीं रहे थे।
मुझे पता था कि यह मेरी बहन के लिए एक बड़ा कदम था और मैंने स्पा में बाकी का समय इस बात को अनदेखी करने में बिताया कि वह नग्न-वक्ष है और मैं उसकी एक झलक पाने से भी बच रहा था।
रात ज्यादा हो रही थी और वैल ने कहा कि उनके सोने का समय हो गया है।
"शायद हम तुम्हें कल देख पाएँगे ?" वैल ने कहा।
मुझे लगा कि करेन का हाथ मेरी जांघ पर है और हल्के से मेरी गोटिओ को छू रहा है। यह एक संयोग भी हो सकता है क्योंकि जब मैंने आश्चर्य से उसे देखा तो उसका चेहरा पूरी तरह से उदासीन था।
करेन जम्हाई ले रही थी, उसने कहा," मुझे भी नींद आ रही है, मैं आज मेरी उड़ान के लिए जल्दी जाग गई थी। मुझे लगता है कि अब बिस्तर पर जाना चाहिए.. चलो छोटे भाई, अपने कैबिन में चलो।"
और इस बार मुझे कोई गलती नहीं लगी, पानी के नीचे करेन ने मेरा लिंग पकड़ा और खींच सा दिया।
"बिल्कुल !" मैंने करेन से कहा।
मैं स्पा से बाहर कूद गया और अपना सामान एकत्रित किया। स्पा के बाहर मैने करेन का तौलिया इस तरह से पकड़ कर फ़ैला लिया ताकि वह इसे पानी से बाहर निकलते ही खुद के चारों ओर झटके से लपेट ले। मैं नहीं चाहता था कि वो मेरे सामने स्पा से बाहर नग्न निकलने में असहज महसूस करे।
जैसे ही हम पूल क्षेत्र से बाहर आए, वह खुले शावर के पास रूक गई,"क्या आप क्लोरीन धोना नहीं चाहते हो?" उसने पूछा।(स्पा के पानी में क्लोरीन मिलाई जाती है, रोगाणु-मुक्ति के लिए)
एक ही पल में हम कंधे से कंधा मिलाकर खड़े थे खुली हवा में स्नान करते हुए ! मैं पूर्ण नग्न और वह निरावृत वक्ष थी। और पहली बार मैंने उसके स्तनों को देखा।
मुझे पहले ही पता था कि करेन के वक्ष बड़े हैं लेकिन अब वे मुझे बहुत बड़े लग रहे थे। हालांकि वे थोड़े लटके हुए थे परंतु वे पूर्ण गोल और चुचूक ऊपर की ओर उठे हुए थे। दोनों स्तनों के बीच गहरी दरार थी और प्रत्येक स्तन उसके हिलने डुलने के साथ जैसे उछल रहे थे।
करेन मेरी पत्नी से बहुत अलग थी। मेरी पत्नी के वक्ष बहुत सुडौल और आकर्षक, एकदम गोल स्तन है जो कि किसी भी मॉडल के लिए ईर्ष्या का कारण हो सकते हैं।
हम हाथ में हाथ लिये अंधेरे में अपने कैबिन में आ गए।
करेन तौलिए से अपने बाल झटक कर सुखा रही थी और उसके स्तन सामने डोल और उछल रहे थे।
करेन का मन पीजा खाने का था जबकि मैंने हम दोनों के लिए गर्म चॉकलेट बनाई।
करेन ने चॉकलेट ले ली और इसे पीकर वह बेडरूम में चली गई, उसने मुझे शुभरात्रि कहा और दरवाजा बंद कर लिया।
बाहर पोर्च पर मैंने अपने हॉट चॉकलेट को पीकर समाप्त किया और सोने से पहले सिगरेट पीने लगा।
तभी वैल और रॉड अपने कैबिन की ओर जाते हुए मुझे शुभरात्रि कहने के लिए रूके।
जब मैं वहाँ खड़े होकर उनसे बातें कर रहा था तो मैं स्पष्ट महसूस कर रहा था कि वैल मेरे लिंग को घूर रही है।
एक लड़की मेरे लिंग को घूर रही है, यह सोच कर मेरा लिंग तुरंत उत्थान पर आ गया।
बहुत देर हो चुकी थी और हमारे आसपास कोई ऐसा नहीं था जो इस पर ध्यान दे, तो मैंने इसे छिपाने की जहमत नहीं उठाई।
"कल मिलते हैं !" उन्होने कहा, वैल मुस्कुराई और पलक झपकते ही दूर चली गई।
शांतिपूर्ण अंधेरे में मैं थोड़ी देर के लिए अकेला बैठा धीरे-धीरे अपने लिंग को हिलाता सोच रहा था- काश इस समय मेरी पत्नी यहाँ होती !
मैंने गर्म रात में सोफे पर सोने की कोशिश की पर मुझे नींद नहीं आ रही थी। मेरा लिंग अभी भी कड़क था और मेरी बंद आँखों के सामने रंगीन यादों के सपने झूल रहे थे, मैंने अपनी जांघों के बीच अपनी नग्न पत्नी के होंठों को चिर-परिचित गुस्ताख़ मुस्कान के साथ रेंगते महसूस किया। मुझे याद आया मैंने पूल में उस चिकनी एशियाई लड़की वैल की छोटी योनि को देखा था। मुझे लगा कि वैल अपने हाथ से मेरा लिंग धीमे धीमे हिला रही है,
मैंने वैल की छवि को अपने मन से दूर करने की कोशिश की, तो मुझे अपने सामने करेन के विशाल स्तन लहराते दिखने लगे। इसके साथ ही आँखें बंदकर मैंने इन सभी छवियों को अपने मन में समेट लिया और अपने कठोर लिंग को और तेजी से हिलाने लगा और कुछ ही मिनटों में मैंने अपने पेट और सीने पर दो दिन से उबलता गर्म पदार्थ निकाल दिया।
मैं काफ़ी देर तक वहाँ लेटा रहा, मैं अपनी बेकाबू साँसों को नियंत्रित करने और एक आनंददायक चर्मोत्कर्ष के बाद सोच रहा था कि सोने से पहले मैं अपने को सिर्फ तौलिये से साफ करूं या फिर गर्म शावर में जाकर नहा लूँ।
मैंने अपनी आँखें खोली और जैसे ही तौलिये की ओर हाथ बढ़ाया, मैंने शयन कक्ष का दरवाजा बंद होने की आवाज सुनी। मैं दरवाजे के नीचे देख सकता था कि अन्दर बत्ती जल रही थी !
इसका मतलब करेन जाग रही थी? और क्या करेन अभी अन्दर गई है?
मैंने जल्दी से अपने आप को ऊपर से साफ किया और लुढ़क कर नींद का नाटक करने लगा। एक बार को मुझे यह लगने लगा कि मेरी ये छुट्टियाँ और आज की रात खराब हो गई हैं।
नग्नता एक अलग बात थी, लेकिन क्या मेरी बहन ने मुझे हस्तमैथुन करते देख लिया है?
मैं सोचने लगा कि सुबह को मैं अपनी बहन करेन का सामना कैसे करूंगा अगर उसने मुझे हस्तमैथुन करते देखा होगा तो !
अगले भाग की प्रतीक्षा कीजिए।
punia420@rediffmail.com

बहन का नग्नता से परिचय-4

मैंने पूल से जाने का फैसला किया क्योंकि उसके चेहरे पर चमकती उसकी बुरी नज़र मुझे अच्छी नहीं लगी।
करेन जल्द ही सनबाथिंग में मेरे साथ में शामिल हो गई और थोडी देर में हमने खाने के लिए कमरे में वापस जाने का फैसला किया।
जब हमने पूल छोडा कम से कम आधा दर्जन लोगों ने " बाय करेन !" करके उसे विदा किया।
ऐसा लगता था कि जब मैं शायद सो गया था तो उसने काफ़ी सारे दोस्त बना लिये थे।
अब आगे :
सोमवार की रात
केबिन में वापस आकर मैंने चोप्स और सलाद का एक हल्का भोजन तैयार किया और ब्लैंक की एक बोतल खोली, करेन पास के स्नान ब्लॉक में एक गर्म स्नान के लिए चली गई। मैं मेज पर भोजन लगा ही रहा था कि करेन कुछ सोचते हुए वापस आई, मैंने उसे बाल सुखाते और हिंदेशियन वस्त्र में फिर से लिपटे देखा। जब उसने अपने पोर्च की रेल पर स्नान सूट लटका दिया तब मुझे एहसास हुआ कि वह हिंदेशियन वस्त्र के अंदर नग्न थी। जब वह बैठ गई तो मैं देख सकता था कि उसके स्तन किसी अन्तः वस्त्र के बिना लटक से गए हैं।
"बेहतर लग रहा है?" मैंने पूछा।
"हाँ !" उसने शराब के लिए हाथ बढ़ाते हुए कहा,"गर्म-स्नान जैसा अच्छा और कुछ भी नहीं ! एक गीली, ठण्डी, चिपचिपी बिकिनी को उतारने में जो आनन्द है वो तुम नहीं अनुभव कर सकते.."
"मुझे याद मत दिलाओ !" मैंने कहा,"मुझे लगता है कि यही मुख्य कारण है कि मैं एक नग्नतावादी बन गया !"
"ओह सच में?" वह बनावटी मुस्कुराई,"नहीं, मुझे तो लगता है कि लड़कियों को अपना लिंग दिखाने के लिए तुम ऐसा करते हो?"
"चुप रहो और खाना खाओ !" मैं हंसा।
हमने भोजन शुरू किया और एक दूसरे को छेड़ते रहे।
करेन ने शुरु किया," हम लिंग के बारे में बात कर रहे थे !"
"नहीं हम नहीं कर रहे थे।"
"मैं कहने जा रही थी कि मैंने जितने लिंग आज देखे, अपने पूरे जीवन में इतने नहीं देखे।"
मैंने कहा," उन्हें देखने में सब एक जैसे लगते हैं।"
"ना," उसने मेरे सामने अपने गिलास को लहराया और कहा,"यह सही नहीं है, प्रत्येक अपने आप में अलग है, व्यक्तिगत है मुझे लगता है कि पुरुषों की तुलना में महिलाओं का नग्न होना ज्यादा आसान है.."
"कैसे?"
"पुरुष कुछ भी छुपा नहीं सकते, दूसरी तरफ महिलाएँ, तब भी जब हम नंगी हैं, हम छुपा सकती हैं !" उसने एक लम्बा घूंट लिया,"जैसे कि उस एशियाई महिला के मामले में आपका व्यव्हार गलत था।"
"मैंने कुछ गलत नहीं किया।" मैंने विरोध किया।
उसने तर्क दिया,"वहाँ वो अपने पैर फैला कर लेटी थी तो आपने उसे देखा लेकिन अपनी नजरें किताब के पीछे छिपा कर धोखे से ! उसके पति ने भी अपने पैर खुले रखे थे, मैंने उसे देखा ! फिर यह देख कर भी नहीं देखने का दिखावा क्यों.."
"ठीक है ! ठीक है ! लेकिन देखना कामुकता नहीं है।" मैंने समझाने की कोशिश की,"सिर्फ देखा ही तो है !"
वह मुझ पर अब हँस रही थी," यह दिखावा छोड़ दो टिम, अगर आप लोग देखना या दिखाना नही चाहते हैं, तो घर पर ही नग्न रह सकते हैं ! लेकिन नहीं, इसके बजाय आप अपनी नग्नता अन्य लोगों को दिखाना चाहते हैं और उनकी नग्नता देखना चाहते हैं इसलिए ऐसी रिज़ोर्ट में आते हैं।"
उसने कहा,"मैंने जूलॉजी का अध्ययन किया है, तुम लोग यह इसलिये करना चाहते हैं, क्योंकि हम साथी प्राणियों को एक प्राकृतिक अवस्था में नहीं देख रहे हैं जबकि अन्य सभी स्तनधारी नग्न हैं और वे एक दूसरे के सामने यौन संबंध करते हैं, मुझे लगता है कि तुम लोगों में भी यह करने की ललक है।"
"दिलचस्प !"मैंने उत्तर दिया।
करेन बोली,"जैसा कि मैंने पहले कहा, तुम सब जो सच में करना चाहते हो कर नहीं पाते हो, डरपोक हो, तो इस नन्ग्नतावाद की आड़ लेते हो, आप वस्त्रधारिओं से भी बडे पाखंडी हो ! मुझे लगता है कि मैं इस विषय पर एक पेपर लिखूंगी.."
"नग्नतावादियों का अच्छा अपमान कर रही हो, सुश्री वस्त्रधारी !" मैंने मुकाबला किया।
"यहाँ तक कि अगर मैं अपना तन दिखाना नहीं चाहती हूँ, कम से कम मैं यह मानती तो हूँ कि मैं दूसरों को देख रही हूँ !"उसने कहा,"आप लोग भी ईमानदारी के साथ यह कर सकते हैं !"
हमने अपना भोजन समाप्त किया और थोड़ी देर सूर्यास्त देखने के लिए चुप बैठ गये।
मैंने इसके बारे में और सोचा तो मैंने स्वीकार किया कि करेन सही कह रही है। अधिकांश नग्नतावादी कुछ पाखंडी हैं, हर कोई दूसरे के शारीर के बारे में टिप्पणी करता है, जबकि यह वास्तव में नहीं होना चाहिये।
मैंने स्वीकार किया कि मेरा करेन के साथ बहस में कोई मुकाबला नहीं था तो मैंने उसे बताया कि मैं उसके पेपर लिखने का इंतजार करूंगा और इसमें मदद भी करूंगा।
"हाँ," वह दबी हंसी,"मैं बहुत सी जानकारी तुमसे ले लूंगी, जब तक मैं यहाँ हूँ और तुम्हारे साथ लम्बी लम्बी वार्ताएँ करुंगी।"
आकाश में तारे थे और यह एक सुंदर मदहोश शाम थी। थोड़ी देर बाद बात करने की और हँसी की आवाज़ ने हमारा ध्यान पूल क्षेत्र की ओर आकर्षित किया।
"क्या हो रहा है वहाँ?" करेन ने पूछा।
"ओह, बहुत से लोग शाम को स्पा में बैठते हैं और एक शोर सा होता रहता है।" मैंने कहा।
"हम भी चलें?" उसने पूछा।
"ज़रूर, क्यों नहीं !"
रेलिंग से उसने बिकनी को उठाया और कहा,"अभी भी चिपचिपा और गीली है, मैं यह नहीं पहन सकती !"
"तो मत पहनो !" मैं मुस्कुराया।
उसने एक पल के लिए सोचा,"नहीं टिम, मैं तैयार नहीं हूँ !" उसने कहा, और वह केबिन में पहनने के लिए कुछ और खोजने चली गई।
आगे क्या हुआ जानने के लिए पढ़ें कहानी का अगला भाग ! कई भागों में समाप्य !
अपनी प्रतिक्रियाएँ मुझे जरुर मेल करें..
punia420@rediffmail.com

बहन का नग्नता से परिचय-3

मैंने कहा,"तुम कपड़े बदल आओ, मैं बरामदे में बैठ कर एक बीयर लेता हूँ ! और हाँ ! जब तुम तैयार हो कर बाहर आओगी तब तक मैं नग्न हो चुका हूँगा ! अब जैसे तुम ठीक समझो !"
उसने अपने को शान्त दिखाते हुए कहा,"धन्यवाद टिम !"
वह बेडरूम में चली गई और मैंने अपने कपड़े उतार कर दूर फेंक दिये, एक तौलिया, एक बीयर और अखबार पकड़ा और बाहर चला गया और वहाँ छोटी मेज पर बैठ गया।
मेरे जैसे न्यूडिस्ट आदमी को यह अच्छा लग सकता है- हवा में खुला शरीर, शांति, शहर के जीवन की परेशानी और तनाव से दूर ! मैंने अखबार पढ़ा, बीयर की चुस्की ली और मुस्कुराया।
"टिम?" करेन की अन्दर से आवाज आई,"मैं अब बाहर आ रही हूँ, क्या तुम शालीनता से बैठे हो?"
हम दोनों हँसे और मैंने उसे मूर्ख कहा।
फिर वह बाहर दरवाजे आई और पहला बड़ा झटका मिला। वह अपने हिंदेशियन वस्र में थी और अच्छी लग रही थी। वह मेज के दूसरी तरफ बैठ गई।
मेरा लिंग उसकी नजर से छिपा हुआ था, यह पहली बार था कि करेन अपने छोटे नग्न बैठे भाई से बात कर रही थी।
"तुम ठीक हो?" मैंने पूछा।
"हाँ !" उसने कहा,"तुम बस बिना कमीज के इस तरह बैठे अच्छे लग रहे हो और यह कोई बड़ी बात नहीं !"
"अच्छा है !"
"मैं देख रही हूँ तुमने अभी भी अपने आपको अच्छा और पतला रखा है ! कैसे रखा है इस आकार में अपने को? मुझे ईर्ष्या हो रही है !
"योग से !" मैंने कहा,"या शायद खानपान ! या दोनों ! पता नहीं ! अरे, तुम बहुत अच्छी लग रही हो बहन ! सच में.."
उसने खुद को संदेह से नीचे देखा, अपने हाथ और पैर खींचे।
"ओह, मैं भी काफी फिट हूँ," उसने कहा,"लेकिन अभी भी स्तन और नितंब पहले जैसे नहीं रहे !"
"तुम ठीक हो !" मैंने कहा,"दोपहर के भोजन से पहले एक पेय लोगी?"
"अम्म ! ठीक है, एक बीयर ले सकती हूँ?" उसने कहा।
मैंने कहा," वहाँ फ़्रिज़ में बहुत हैं ! अपने आप ही लेनी होगी।"
"अरे!" मैं एक मेहमान हूँ !" उसने मुँह फुलाया,"तुम मेरे लिए एक बीयर लेकर आओ !"
मैंने सोचा, ऐसे ही चला जाता हूँ ! और मैं जल्दी से खड़ा हुआ और पीछे मुड़ कर देखे बिना केबिन में चला गया।
कुछ क्षणों बाद में मैं बीयर लेकर वापस आ गया और उसको देने के लिए ठीक उसके सामने खड़ा था। इस समय वहाँ कोई अवरोध नहीं था कि वह मेरे लिंग और अण्डकोश जो उसके चेहरे से केवल 2 फीट की दूरी पर थे, न देख सके।
अब वहाँ सब खुल चुका था ! मैने सोचा और मेरी सीट पर फिर से बैठ गया।
हम चुपचाप थोड़ी देर बीयर की चुस्कियाँ मारते रहे।
तब करेन ने कहा,"ठीक है ! मैं यहाँ हूँ और मैंने अपने छोटे भाई के लिंग को देखा !
और कहा।" अगर यह गलत है तो भी मुझे लगता है कि मैं इस तरह से अपनी छुट्टी बिता सकती हूँ।"
"फ़िर ठीक है !" मैंने कहा।
"हाँ !" वह मुझ पर मुस्कुराई और उत्सुकता से कहा,"यह कोई बड़ी बात नहीं है।"
"अरे, अपने आपको अपने निर्णय पर कायम रखना !" मैं हंसा,"चियर्स !"
हमने बोतलें आपस में टकराईं और फ़िर ठंडी बीयर पीने लगे, मैं उसे अपने साथ यहाँ लाने के विचार से सहज था।
करेन ने हमारे लिए एक प्यारा ताजा चिकन सैंडविच बनाया था जो हम फ़िर बीयर के साथ खा रहे थे और अब हम कोई शर्म महसूस नहीं कर रहे थे।
यह दोपहर के बाद का समय था और हमने बरामदे में बैठ कर बातचीत को जारी रखा।
"तो !" करेन ने कहा,"नग्नवाद के विषय में मुझे और बताओ !"
"मसलन ?"
"ठीक है, उदाहरण के लिए नग्नता में शिष्टाचार !" वह मेज पर झुकी।
और मैं समझ गया कि वो एक गहरी और सार्थक बातचीत करने को उत्सुक है।
मैंने किसी वेबसाइट पर तौलिए, पुरूष-लिंग-उत्थान, फोटो या घूरने आदि के बारे में पढ़ा है। लेकिन मुझे तुम बताओ कि क्या नग्नवाद शरीर के अंगों के उल्लेख की अनुमति देता है?
"दिलचस्प सवाल है !"मैंने कहा, "मुझे लगता है कि हम में से बहुत सारे लोग शरीर के अंगों के बारे में खुले तौर पर चर्चा को सहजता से नहीं लेते हैं। वैसे हमें अच्छी तरह से पता नहीं है, क्योंकि कुछ लोगों को लगता है कि हम उनके अंगों की चर्चा करके तस्वीरें खींच कर, घूर कर उनकी निजता भंग कर रहे हैं या हम बहुत ज्यादा विकृत मानसिकता के हैं।"
"फिर जाओ !" उसने बहस की,"शर्मीले भी हो और नग्न भी ! धूर्त कहीं के !" वह बीयर पीते हुए मुझ पर मुस्कुराई।
मैंने कहा,"कपड़े वालों से ज्यादा नहीं !"
"ओह क्या तुम सचमुच ऐसा कह सकते हो?" उसने पूछा,"क्या एक सामान्य रिसॉर्ट में कपड़े वाले व्यक्ति को एक दूसरे पर छींटाकशी करने की अनुमति है? तो तुम लोगो में और कपड़े पहने हुए लोगों में बडा अंतर क्या है?"
"कौन कहता है कि कपड़े पहने व्यक्ति को एक दूसरे पर छींटाकशी करने की अनुमति है?" मैंने पूछा।
ओह आप चारों ओर देखिए छोटे भाई !" वह हँसी,"क्या आपको लगता है कि मानव जाति यह लंबे समय तक चली होता अगर लोग एक दूसरे से न जुड़े होते? जहाँ में बैठी हूँ, एक "नग्न विश्व" में मानव जाति दो पीढ़ियों में खत्म हो जायेगी। कभी किसी को डेट पर बुलाने की हिम्मत भी नहीं रह जायेगी।
यद्यपि इस रिसॉर्ट में मैंने कुछ संबंध बनते हुए देखे थे, लेकिन फ़िर भी उसे ऐसा कुछ बताने से परहेज किया।
लेकिन मैं मानता हूँ कि उसका तर्क सही है। यह एक कारण है कि मैं यहाँ अकेले आने से नफरत करता हूँ क्योंकि आपसे बहुत कम व्यक्ति बात करना पसंद करेंगे। क्योंकि उनका मानना है एक अकेला पुरुष नग्न सिर्फ महिलाओं से संबंध बनाने का ख्याल अपने मन में लेकर आता है। और विडंबना यह है कि वहाँ बहुत ज्यादा अकेले रहने से बोर हो गए।
"तुम यहाँ बहुत कुछ देखोगी डॉ लेक्चरर !" मैंने अपनी पूरी गंभीर आवाज में कहा,"लेकिन तुम अपने उच्च स्तरीय धारणा से बाहर आने के लिए तैयार हो? या शायद आप डर रही हैं?"
"मुझे किसी बात से डर नहीं लगता है," वह हँसी,"एक वस्त्रधारी के रूप में भी अगर मैं चाहूँ तो शरीर के अंगों का उल्लेख कर सकती हूँ।"
"ओह?"
"हाँ," वह कृत्रिम रूप से मुस्कुराई,"उदाहरण के लिए तुम्हारा लिंग ! हम सब परिवार में हमेशा समझते रहे थे कि आपका बड़ा होगा, और अब मैं अपने परिवार में अकेली हूं जिसे पूरी सच्चाई का पता है- तुम्हारा लिंग सचमुच विशाल है।"
"ठीक है ! पर मुझ पर एक एहसान करो, यह बात गुप्त रखना !"
वह हँसी,"हाँ, जब से तुम पर यौवन आया, हम सब यह देख सकते थे। तुम 80 का दशक याद करो जब सभी स्ट्रेच जींस पहनते थे?"
"ठीक है ! ठीक है ! तो मेरा लिंग बहुत बड़ा है, आगे कहो !" मैं धीमे से हंसा।
"और मुझे लगा कि तुम खतनारहित थे?" उसने कहा।
"तो मैं खतनारहित ही हूँ, मैं सिर्फ उन लोगों में शामिल हूँ जिनकी आगे की चमड़ी अग्रभाग को नहीं ढकती है, आमतौर पर केवल आधे तक रहती है, और अगर मैं उत्थान में हूँ, चमड़ी पीछे हट जाती है तो सामान्य रूप में मैं खतना किया हुआ दिखता हूँ। बस मेरे लिंग पर एक लंबी चमड़ी नहीं है। समझी?" मैंने करेन को समझाया।
वह मेज पर जांच करने के लिए झुकी।
"ओह, मैं अब इसे देखना चाहती हूँ !" उसने कहा,"आपका गुप्तांग चमड़ी के लिए बहुत बड़ा है।"
"हाँ ! या कहें कि मेरे लिंग के लिए यह चमड़ी छोटी है.."
"तो यह कितना बड़ा है?"
"पता नहीं !" मैंने कहा,"कभी यह नहीं मापा !"
"झूठ बोल रहे हो तुम ! तुम मुझे एक भी आदमी ऐसा दिखाओ जिसने अपना लिंग मापा नहीं है !" वह हँसी।
"यहां अब यही कारण है कि नग्नतावादी शरीर के अंगों पर चर्चा नहीं करते है क्योंकि पुरुषों के लिए यह असंभव है कि उनके लिंग के बारे में कोई औरत चर्चा करे और पुरुष का खड़ा ना हो ! यह लगता है कि लिंग भी सुन रहा है और चाहता है जबकि उसकी चर्चा हो रही है तो यह सबसे अच्छा दिखे !"
और अभी मुझे लगा कि मेरा लिंग भी उत्थान के लिए तैयार हो रहा है, तो इस अप्रिय स्थिति से बचने के लिए मैंने खुद के लिए सोचा कि इस समय क्रिकेट के बारे में सोचना ठीक है।
मैंने करेन को अपने उत्थित लिंग को देखने से बचाने के लिए कहा,"ठीक है, यहाँ आपके आसपास बहुत सारे लोग हैं, अगर चाहो तो एक सर्वेक्षण कर सकती हो !"
वह मुस्कुराई,"मैं तुम्हारे बिना सर्वेक्षण करूंगी? तुम शायद सामान्य नहीं लग रहे हो?"
सच यह था कि मेरा लिंग अभी अर्द्ध उत्थित अवस्था में था और मैं मेज छोड़ना नहीं चाहता था, मैं नहीं चाहता था कि करेन मेरे उत्थित लिंग को देखे।
"ठीक है !" मैंने करेन को अपने से दूर करने के लिए कहा,"तुम छोटा रूमाल और कुछ पेय और सनस्क्रीन और अन्य सामान ले लो, जब तक मैं कार लॉक करता हूँ।"
वह केबिन के अंदर चली गई और मैं कार की ओर भागा। एक छोटे से ठहराव के बाद मेरा लिंग वापस लगभग पूरी तरह से ढीला पड़ गया था, हालांकि अभी मैं सुरक्षित था फिर भी किसी विपरीत स्थिति से निपटने के लिए मैंने कंधे पर एक तौलिया रख लिया ताकि अगर पुनः उत्थान हो तो मैं इसे ढक सकूँ।
करेन वापस बाहर आई, हिंदेशियन वस्र अभी भी उसकी जगह था और उसके सिर पर एक बड़ी टोपी और आंखों पर धूप का चश्मा था।
हम पूल की ओर की पगडंडी पर चले गये और वहाँ बाहर पहुँच कर घबराहट छुपाने के लिये करेन ने मेरा हाथ अपने हाथ में ले लिया और मुझे बताया कि वह वास्तव में घबराई हुई है नग्न लोगो को देख कर !
पूल-क्षेत्र लोगों से भरा था। परंपरा इस प्रकार है कि हर कोई पूल तक अपने मज़े के लिए अपने पेय लाता है। वहाँ वास्तव में दो पूल हैं, एक बडा, एक छोटा सा ! और 4 बड़े स्पा भी!
और वहाँ पर एक बडे शेड के नीचे बेंच, मेज, शावर और एक सॉना।
वहाँ करीब 20 लोग पहले से मौजूद थे। अधिकतर मध्यम आयु वर्ग के जोडे, जो सभी एक दूसरे काफी अच्छी तरह से जानते थे। मैंने उनके साथ परिचय करने के लिये कुछ को फ़टाफ़ट "हाय-हेलो" कहा।
हमने एक बेंच पर अपना सामान रखा और हमारे बाहर डेक पर सूरज की गर्मी लेने के लिये तौलिए बिछाए। हमारे सामने एक हमारी उम्र का पतला गंजा आदमी अपनी एशियाई पत्नी के साथ बैठा था। वे दोनों खुजलाने के एक खेल पर ध्यान दे रहे थे, खेल रहे थे और उन्होंने एक संक्षिप्त मुस्कान से हमारा स्वागत किया। मैं उसकी पत्नी को सीधा नही देख रहा था लेकिन अपनी किताब के ऊपर से मैं देख सकता था कि उसने एक पैर अपने शरीर के नीचे दबा रखा था और जिस कोण से डेक पर मैं लेटा था वहाँ से एक सुंदर बाल रहित दरार का एक आदर्श दृश्य दिख रहा था। मैं समय समय पर इस पर नजर डाल लेता था पर विशेष रूप से नहीं, बस इसकी स्वच्छता और इसकी सुन्दरता को निहारने के लिये !
उसके पति का लम्बा, पतला लिंग था, करेन के चेहरे से 3 फुट दूर अपनी सीट के किनारे पर नीचे लटका हुआ था लेकिन उसके धूप के चश्मे के कारण वह उसे देख रही थी या नहीं यह जानने का कोई तरीका नहीं था।
हमारे पीछे पूल में लोगों आलस्य के साथ उनके केबिन, अपने काम, अपनी कार के बारे में सभी सामान्य बातें कर रहे थे। हमारे बाईं ओर स्पा में एक बहुत ही फिट दिख रहा जोड़ा एक जर्मन बुजुर्ग अकेले आदमी को उनके नए टेटु दिखा रहे थे।
किताब पढ़ना अब मेरे लिए भारी होता जा रहा था क्योंकि मैंने हमेशा की तुलना में अधिक बीयर पी ली थी और सूरज की गर्मी में जल्दी ही मैं सो गया।
मैं 20 मिनट के लिए सोया हूंगा, जागने पर पहली बात मैंने देखी कि मेरे सामने जो एशियाई औरत थी वो धीरे से योनि को एक तरफ खींच रही थी, बहुत प्यारी लग रही थी, और एक क्षण के लिए दो भीतरी होंठ की झलक जो उसके हाथ उसके योनि पर छुलने से दिख गये थे।
एक बहुत जल्दी दिखने वाला प्रदर्शन जिसमें कामुकता बिल्कुल नहीं, बस कभी कभी थोड़ा 'बोनस' एक नग्नवादी को मिल जाता है।
दूसरी बात कि मैंने अपनी बाईं तरफ देखा, तो करेन चली गई थी और उसका हिंदेशियन वस्त्र तौलिए पर अस्त व्यस्त पड़ा था।
मैं जल्दी से उसे ढूंढ्ने के लिये उठ बैठा तो उसने मुझे आवाज दी,"आप जाग गए हैं क्या? तुम्हें पता है तुम खर्राटे लेते?"
वह पूल में थी और पानी हिला रही थी और एक बड़े जर्मन आदमी से बात कर रही थी। वह एक काले रंग की वन पीस तैराकी पोशाक पहने हुए थी जो उसके बड़े स्तनों के लिए आवश्यक सपोर्ट नहीं दे रही थी और उसके स्तन अपने आप पानी ले तल पर एक सतत ताल के साथ तैर रहे थे।
जर्मन आदमी हालांकि उससे फिल्म और टीवी के बारे में बात कर रहा था। परंतु, स्पष्ट रूप से वो मेरी बहन के स्तनों पर कौतूहल से नज़र रखे था जो हर दूसरे सेकंड पर चमक रहे थे।
"आ जाओ !" उसने कहा,"यह सुंदर है।"
मैं पानी में कूद गया और तैर कर उसके पास पहुंचा और उसने मेरी कार्ल से मुलाकात कराई। शीघ्र ही यह स्पष्ट हो गया कि उसने उसे अपने जीवन की काफी कुछ कहानी कह दी थी और उसने मुझे अपनी बहन के लिए एक छुट्टी का काफी अच्छा काम करने के लिए बधाई दी। कार्ल नियमित रूप से रिजोर्ट में आता था, वास्तव में वह रिसोर्ट में अपने स्वामित्व वाले केबिन में रहता है और अब वह सेवानिवृत्त हो गया था तो उसने शायद ही कभी यह जगह छोड़ी हो !
वह छोटा और गठीला और रोम वाला पुरूष था और एक बहुत ही प्रभावशाली खतनारहित लिंग का स्वामी था। उसका लिंग मेरे लिंग से 2 इंच से अधिक लंबा था। मैंने सोचाकि शायद करेन ने भी देखा होगा?
मुझे लगता है क्योंकि वह भी उन लोगों में से एक था जो अंजाने में अपने लिंग को हर मिनट में सहलाते रहते हैं।
"मैं आपकी बहन को नग्नतावाद समझाने की कोशिश कर रहा था।" उसने मुझसे कहा,"लेकिन वह अब भी अनिच्छुक है।"
एक अधेड़ आदमी करेन को उसके पहले दिन पर समझा रहा था।
वह बस घूमने के लिए यहाँ आई है।" मैंने उसे बताया,"तो आप समझ सकते हैं कि वह नग्न होने के लिए तैयार नहीं है।"
"नहीं, आज तो वैसे भी नहीं !" करेन मुस्कुराई और मेरी तरफ तैर कर मेरे कंधे के चारों ओर अपनी बाहें डाल दी।
हम अचानक पूल के गहरे हिस्से में आ गए और मैंने अपने आप को स्थिर करने के लिए अपने हाथ पानी से बाहर निकालने चाहे तो मैंने पाया कि मेरे हाथ करेन की चौड़ी कमर के चारों ओर लिपटे हुए हैं।
उसने सोचा होगा कि मैं उसे डुबकी लगवाने की कोशिश कर रहा था और उसने किलकारी मारकर मुझे मेरे कंधों पर दोनों हाथों से पानी के अन्दर धक्का दे दिया।
मैं बड़बड़ाते हुए बाहर आया और उसे भी बाहर निकालने की कोशिश की लेकिन उसने मुझे आलिंगन देते हुये पकड़ लिया।
अब मैं उसके बड़े स्तनों को महसूस कर रहा था मेरा लिंग उसके पेट के नीचे रगड़ खा रहा था। कार्ल हम पर मुस्कुरा रहा था।
मैंने पूल से जाने का फैसला किया क्योंकि उसके चेहरे पर चमकती उसकी बुरी नज़र मुझे अच्छी नहीं लगी।
करेन जल्द ही सनबाथिंग में मेरे साथ में शामिल हो गई और थोडी देर में हमने खाने के लिए कमरे में वापस जाने का फैसला किया।
जब हमने पूल छोडा कम से कम आधा दर्जन लोगों ने " बाय करेन !" करके उसे विदा किया।
ऐसा लगता था कि जब मैं शायद सो गया था तो उसने काफ़ी सारे दोस्त बना लिये थे।
आगे क्या हुआ जानने के लिए पढ़ें कहानी का अगला भाग ! कई भागों में समाप्य !
अपनी प्रतिक्रियाएँ मुझे जरुर मेल करें..
punia420@rediffmail.com